Thursday , August 24 2017
Home / India / मोदी जी ‘हमारे गांव आकर देखिए, फिर आप जानेंगे हमारी तकलीफ’

मोदी जी ‘हमारे गांव आकर देखिए, फिर आप जानेंगे हमारी तकलीफ’

महोबा (उत्तर प्रदेश): केंद्र सरकार के नोट बैन किये जाने के फैसले के बाद जनता को बहुत दिक्कतों का सामना करना पद रहा है | एनडीटीवी की एक रिपोर्ट के मुताबिक़ उत्तर प्रदेश के बुंदेलखंड में किसानों की हालत बहुत ख़राब है इसके लिए लोगों को 10 किलोमीटर तक पैदल चल कर बैंक आना पड़ रहा है |

सुबह 9 बजे  तक बैंक के बाहर लगी लोगों की लाइन बहुत लंबी हो चुकी होती है | लगातार लगातार चौथे दिन 10 किलोमीटर पैदल बैंक आये 65-वर्षीय किसान बिहारी दास ने कहा कि वह बेहद थक चुका है | बिहारी दास का कहना है कि वह बेहद परेशान है रोज़ रोज़ इतनी दूर चलकर आना पड़ता है | बेहद दुःखद पहलु ये है कि हर रोज़ यहाँ आने के बाद भी बिहारी दास की बारी आने से पहले ही नकदी खत्म हो जाती है…

बिहारी दास को इस वक़्त 10,000 रुपये की बेहद ज़रुरत है जिससे उसे गाँव में अभी बोई फसल के लिए खाद खरीदनी है | आमतौर पर बुंदेलखंड के किसान अकसर सूखे की मार झेलते हैं | कई सालों में पहली बार इस साल मानसून अच्छा रहा | लेकिन इस बार केंद्र सरकार के नोटबैन करने के फैसले ने किसानों को परेशान कर दिया है |  इस फ़ैसले से पैदा हुई नक़दी की किल्लत की वजह से किसान बीज और खाद नहीं खरीद पा रहे हैं | खेतों की जुताई कर बुआई के लिए तैयार कर किसान अब और ज़्यादा इंतज़ार नहीं कर सकते हैं |

गुरुवार को सरकार ने कहा था कि किसान अपनी फसलों के लिए अपने किसान क्रेडिट कार्डों के ज़रिये एक सप्ताह में 25,000 रुपये तक निकाल सकते हैं| बैंक के बाहर लगभग 400 लोगों की लाइन लगी हुई | बैंक मैनेजर के पहुँचने के बाद भी ब्रांच नहीं खोली गयी |लोगों में आक्रोश बढ़ता ही जा रहा है | लाइन में लगे किसान में से एक किसान ने कहा, “आपको लगता है, मैं झूठ बोल रहा हूं…? हम सब झूठ बोल रहे हैं…? आप क्या समझते हैं, हमें पैसे की ज़रूरत नहीं है…? हमारे गांव आइए, और देखिए, हम पर क्या बीत रही है…”
सिर्फ  40 मिनट बाद किसानों को बताया जाता है कि नकदी खत्म हो चुकी है…

बैंक के मुख्य कैशियर विक्रांत दुबे का कहना है कि वह रोज़ाना 13 घंटे काम कर रहे हैं और नकदी मंगाने की कोशिश कर रहे हैं… मैं पूरी कोशिश कर रहा हूं, लेकिन नकदी की कमी का हम क्या कर सकते हैं…?” अन्य बैंक अधिकारियों ने भी बताया कि बैंक में आखिरी बार नकदी नए नोटों की सूरत में 15 लाख रुपये  दो दिन पहले पहुंची थी ..लेकिन वह जो गुरुवार को ही खत्म हो गए… बिहारी दास अब भी लाइन में खड़ा है…

 

TOPPOPULARRECENT