Saturday , April 29 2017
Home / Kashmir / मोदी सरकार जनेऊ पर हाथ डाल रही है, उसे पुरोहितों का श्राप लगेगा: सामना

मोदी सरकार जनेऊ पर हाथ डाल रही है, उसे पुरोहितों का श्राप लगेगा: सामना

नई दिल्ली: त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पुरोहितों पर आयकर विभाग के छापेमार को लेकर शिवसेना ने मुख्यपत्र सामना में मोदी सरकार पर निशाना साधा है। अखबार में अपने एक लेख में मोदी सरकार के पूछा है कि क्या काला पैसा हिंदुओं के पास है, देश में मुस्लिम और ईसाई भी हैं। उन पर कार्रवाई की हिम्मत किसी ने क्यों नहीं दिखाई?

सामना में ‘गर्व से कहो हम हिंदू हैं’ शीर्षक से छपे संपादकीय में कहा गया है कि हिंदुस्तान में फिलहाल कालेधन के विरुद्ध लड़ाई जारी है, पर काला पैसा बाहर निकालने के लिए सरकारी तंत्र कब किसके घर में घुस जाएगा, यह तय नहीं है। अब आयकर विभाग ने त्र्यंबकेश्वर मंदिर के पुरोहितों के जनेऊ पर ही हाथ डाल दिया है। महाराष्ट्र का समस्त पुरोहित वर्ग सरकार को श्राप दे रहा होगा। सच कहा जाए तो आयकर विभाग द्वारा त्र्यंबकेश्वर के पुरोहितों के यहां छापा मारना असल में एक पहेली ही है। क्योंकि काला पैसा निश्चित किसके पास है? ऐसा प्रश्न खड़ा हो रहा है?

इस लेख में मुसलमानों के खिलाफ भड़काऊ बयान दिया गया। लेख में लिखा कि महाराष्ट्र से लेकर देश के कोने-कोने में जो मदरसे और मस्जिदें खड़ी हैं उनकी भव्यता आश्चर्यचकित करनेवाली है। इस्लामी देशों से इसके लिए भरपूर विदेशी मुद्रा आ रही है। विदेशों से आनेवाले इस धन का हिसाब मांगने के लिए मदरसों और मस्जिदों पर आयकर विभाग के शूरवीर अधिकारी छापा मारेंगे क्या? इतनी हिम्मत इन लोगों में निश्चित ही नहीं है।

अपने इस लेख में सामना ने लिखा है कि जिस तरह के छापे हिंदू पुरोंहितों के घरों पर पड़े हैं, वैसे छापे ईसाई पुरोंहितों के घरों पर डालने कि हिम्मत किसी ने नहीं दिखाई। हमें किसी पर ओरोप नहीं लगाना है, जो मन में आया वो सहज कह दिया। मुसलमानों के संबध में और क्या कहें! विशिष्ट प्रकार के मस्जिदों में कट्टर शक्तियों को भारी अर्थपूर्ति होती ही है।

इसके अलावा सामने के इस लेख में ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) पर भी निशाना साधा गया है।  इसमें लिखा गया है कि मियां औवेसी ने नोटबंदी का झटका मुसलमानों को ही लगने की बात कही है। कारण क्या है? वो कहते हैं, मुसलमानों के मोहल्ले में एटीएम मशीन नहीं है, जिससे हाहाकार मचा है, पर मियां ओवैसी को हम कहना चाहते हैं कि उनके मुसलमान भाई-बंधु ज्यादा सुखी हैं, क्योंकि हिंदू बस्तियों में जो एटीएम मशीनें है उनमें दिनभर कतारें लगाकर भी पैसा नहीं मिलता।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT