Monday , September 25 2017
Home / International / मोहम्मद अली का नमाज़े जनाज़ा, 18 हजार लोगों ने बुक की जगह

मोहम्मद अली का नमाज़े जनाज़ा, 18 हजार लोगों ने बुक की जगह

लंदन: बॉक्सर दि ग्रेट मोहम्मद अली का नमाज़े जनाज़ा गुरुवार को अदा किया जाएगा। अगले दिन शुक्रवार की सुबह उन्हें राज्य केंटकी शहर लुई वैल के एक प्रसिद्ध कब्रिस्तान हिल क्यू में इस्लामी खंड में सुपुर्दे खाक किया जाएगा। दफन में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भी शरीक होंगे और दुनिया भर में उदारवादी इस्लाम के सफीर श्रद्धांजलि देंगे।

मुहम्मद अली ने 74 साल पहले लुई वैल में आंख खोली थी और जीवन का बड़ा हिस्सा इसी शहर में बिताया। बोक्सिंग लीजेंड के नमाज़े जनाजा के लिए शेख ज़ैद को मुकरर किया गया है। अरब टीवी से बातचीत में शेख ने बताया कि नमाज़े जनाज़ा का आयोजन शहर में “केंटकी चिकन” फास्ट फूड नेटवर्क के एक हॉल फ्रीडम में किया जाएगा। इसका कारण यह है नमाज़े जनाज़ा में भाग लेने की कामना करने वाले 18 हजार लोग शहर की किसी मस्जिद में नहीं आ सकते जिन्होंने इस संबंध में अग्रिम रूप में अपनी जगहें बुक करा ली हैं।

शेख ज़ैद से मोहम्मद अली और उनके परिवार का ताल्लुक 6 साल पहले हुआ था जिसके बाद से वह घर के लिए धार्मिक सलाहकार की हैसियत रखते हैं। मोहम्मद अली के नमाज़े जनाज़ा में जिन प्रमुख हस्तियों की भागीदारी की उम्मीद है उनमें से हास्य अभिनेता बेली करेसटल, खेल की दुनिया के पत्रकार ब्रायंट गम्बल, तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब ईरदोआन और बोक्सिंग लीजेंड के घराने के प्रवक्ता बॉब गोनल शामिल हैं। इसके अलावा सोशल मीडिया पर समारोह में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के शामिल होने संबंधी अफवाहें भी प्रचलन में हैं।

शेख ज़ैद के अनुसार मोहम्मद अली की कब्र अपने माता पिता की आम कब्र के पास नहीं होगी जो मोहम्मद अली के कब्र की जगह से 23 किलोमीटर दूर स्थित है। याद रहे कि मोहम्मद अली के इकलौते भाई रहमान अली ने 2013 में ब्रिटिश अखबार को बताया था कि मोहम्मद अली ने निर्देश दिया है कि अगर वह रहमान अली से पहले मर जाएं तो उन्हें अपने माता पिता की कब्र के पास दफनाया जाए।

इसके अलावा कब्र क़तबे में 1968 में हत्या कर दिए जाने वाले अमेरिकी पादरी मार्टिन लूथर किंग के यह जुमले भी उत्कीर्ण कराए जाएं कि “मैंने किसी को चाहने की कोशिश की और यह कि मानवता से प्यार करूं और उसकी सेवा करूँ”। दरअसल मैं भूखों को खिलाने और बे लबासों को कपड़े पहनाने की कोशिश की। हालांकि शेख ज़ैद  का कहना है कि यह इबारतें उत्कीर्ण कराना उनकी जिम्मेदारी नहीं। अनुसार शेख ज़ैद की गिनती “पश्चिमी दुनिया की 9 सबसे प्रभावशाली मुसलमान हस्तियों” में होता है। अपने नाम “ज़ैद सलीम शाकिर” के बारे में उनका कहना है कि इस नाम के शब्द कुरान की विभिन्न सूरतों से लिए गए हैं।

TOPPOPULARRECENT