Sunday , October 22 2017
Home / International / मोहम्मद अली के जनाज़े में दुनिया भर को शिरकत की दावत, कफ़न दफ़न 10 जून को होगा

मोहम्मद अली के जनाज़े में दुनिया भर को शिरकत की दावत, कफ़न दफ़न 10 जून को होगा

वाशिंगटन : शुक्रवार तीन जून 74 की उम्र में निधन हो जाने वाले महान मुक्केबाज और पूर्व विश्व चैंपियन मोहम्मद अली की एक नायक के रूप में दफन अगले शुक्रवार 10 जून को अमेरिकी राज्य केंटकी में उनके गृहनगर लुईस  विल में की जाएगी।

समाचार एजेंसी रोइटरज़ की रविवार 5 जून को मिलने वाली रिपोर्टों के अनुसार मोहम्मद अली के पार्थिव शरीर को लुईस विल शहर में एक सार्वजनिक जुलूस के रूप में स्थानीय स्टेडियम तक ले जाया जाएगा, जहां उनकी याद में एक सार्वजनिक समारोह आयोजित किया जाएगा ।

शहर प्रशासन के अनुसार ‘महानतम’ खिलाड़ी और पिछली सदी के सबसे महत्वपूर्ण व्यक्ति क़रार दिए जाने वाले मोहम्मद अली एक ऐसे इंसान थे, जिनसे दुनिया भर में उनके प्रशंसक बेपनाह प्यार करते थे और जिन्होंने मुक्केबाजी के खेल के साथ साथ रंगभेद और युद्ध के खिलाफ और काले आबादी के लिए बराबर के नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष करने वाले कार्यकर्ता के रूप में भी अभूतपूर्व सेवा दी थी।

मोहम्मद अली के परिवार के प्रवक्ता अध्याय गनल ने शनिवार की रात एक संवाददाता सम्मेलन में पत्रकारों को बताया कि लुईस विल में उनकी स्मारक सेवा के अवसर पर दुनिया के इस ‘सर्वाधिक पसंदीदा एथलीट’ के कई विभिन्न क्षेत्रों में उल्लेखनीय सेवाओं को भी श्रद्धांजलि पेश किया जाएगा, जिनकी वजह से मोहम्मद अली अपने जीवन में ही अपनी परोपकार के कारण अपने लिए एक ‘सार्वभौमिक स्थान’ प्राप्त कर चुके थे। अध्याय गनल के अनुसार मोहम्मद अली की याद में इस सभा से कई अन्य प्रसिद्ध हस्तियों के अलावा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बिल क्लिंटन भी संबोधित करेंगे।

मोहम्मद अली ने, जो जन्म से एक ईसाई थे और जिनका नाम कीतिययस क्ले था, जवानी में ही इस्लाम स्वीकार कर लिया था और उसके बाद से दुनिया उन्हें ज्यादातर केवल मोहम्मद अली के रूप में जानती है।

17 जनवरी 1942 को लुईस विल में जन्मे मोहम्मद अली तीन बार मुक्केबाजी विश्व हैवीवेट चैंपियन बने थे। वह तीन दशकों से भी अधिक समय से कंपन रोग या पार्किंसंस सिंड्रोम का शिकार थे।

मोहम्मद अली का निधन अमेरिकी राज्य एरिजोना शहर फीनिक्स के एक अस्पताल में हुआ था, जहां उनकी लाश को अगले एक दो दिन में लुईस विल पहुंचा दी जाएगी। उनका निधन साँस में तकलीफ के जटिलताओं की वजह से शुक्रवार तीन जून की रात हुआ था।

उनकी याद में केंद्रीय शोक समारोह शुक्रवार दस जून लुईस विल में एफसी सेंटर में दोपहर दो बजे शुरू होगी, जिसमें 20 हजार से अधिक लोगों के बैठने की क्षमता है। इस मेमोरियल सेवा एफसी सेंटर साइट के माध्यम से इंटरनेट पर भी प्रत्यक्ष दिखाई जाएगी।

TOPPOPULARRECENT