Sunday , August 20 2017
Home / World / म्यांमार मुसलमानों के ख़िलाफ़ जारी मुनाफ़िरत बंद कराई जाए

म्यांमार मुसलमानों के ख़िलाफ़ जारी मुनाफ़िरत बंद कराई जाए

An emotional Rohingya Muslim woman, fleeing sectarian violence in Myanmar, is pictured on an intercepted boat trying to cross the Naf river into Bangladesh in Teknaf on June 13, 2012. Bangladesh on Wednesday refused three more boatloads of Rohingya Muslims fleeing sectarian violence in Myanmar, officials said, despite growing calls for the border to be opened. Bangladeshi guards have turned back 16 boats carrying more than 660 Rohingya people, most of them women and children, since June 11 as they tried to enter from neighbouring Myanmar across the river Naf. AFP PHOTO/ Munir uz ZAMAN (Photo credit should read MUNIR UZ ZAMAN/AFP/GettyImages)

बर्मा में मुसलमान आबादी पर बुद्ध मत दहशतगर्दों और मुक़ामी हुकूमत के वहशियाना मज़ालिम का सिलसिला बदस्तूर जारी है। अक़वामे मुत्तहिदा ने म्यांमार के मुसलमानों के साथ होने वाले ज़ालिमाना और इमतियाज़ी सुलूक के संगीन नताइज पर ख़बरदार करते हुए बर्मा की हुकूमत से मुसलमानों को उनके हुक़ूक़ का तहफ़्फ़ुज़ यक़ीनी बनाने का मुतालिबा किया है।

अल अर्बिया डॉट नेट के मुताबिक़ अक़वामे मुत्तहिदा के दो सीनीयर ओहदेदारों ने म्यांमार में इतवार 8 नवंबर को होने वाले पार्लीमानी इंतिख़ाबात के दौरान मुसलमान आबादी को हर मुम्किन तहफ़्फ़ुज़ देने का मुतालिबा किया।

अक़वामे मुत्तहिदा के ओहदेदारों का कहना था कि म्यांमार में जहां इंतिख़ाबी अमल का पुरअमन होना ज़रूरी है वहीं रोहंगीयाई मुसलमानों के ख़िलाफ़ जारी नफ़रत और इश्तिआल अंगेज़ मुहिम पर भी लाज़िमी पाबंदी लगाई जानी चाहिए।

TOPPOPULARRECENT