Tuesday , October 17 2017
Home / India / यदि यूरप्पा ज़मानत केलिए हाइकोर्ट से रुजू

यदि यूरप्पा ज़मानत केलिए हाइकोर्ट से रुजू

बैंगलुर। 18 अक्तूबर (पी टी आई) साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक बी ऐस यदि यूरप्पा ज़मानत के हुसूल केलिए हाइकोर्ट से रुजू हुए हैं। अराज़ी एस्क़ाम मुक़द्दमा में ख़ुसूसी लोक आयवकत अदालत ने उन्हें 22 अक्तूबर तक अदालती तहवील में दिया है। सीनीय

बैंगलुर। 18 अक्तूबर (पी टी आई) साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक बी ऐस यदि यूरप्पा ज़मानत के हुसूल केलिए हाइकोर्ट से रुजू हुए हैं। अराज़ी एस्क़ाम मुक़द्दमा में ख़ुसूसी लोक आयवकत अदालत ने उन्हें 22 अक्तूबर तक अदालती तहवील में दिया है। सीनीयर वकील जया कुमार ऐस पाटल ने जस्टिस वे वे पिंटो के रूबरू दरख़ास्त दाख़िल करते हुए यदि यूरप्पा की ज़मानत मंज़ूर करने की ख़ाहिश की। इस मुआमले पर समाअत कल होगी। 68 साला यदि यूरप्पा सिटी हॉस्पिटल के आई सी यू में ज़ेर-ए-इलाज हैं। उन्हों ने गिरफ़्तारी नागुज़ीर होजाने की बिना हफ़्ता को लोक आयवकत अदालत के रूबरू ख़ुदसपुर्दगी इख़तियार की थी। ख़ुसूसी अदालत ने उन की दरख़ास्त ज़मानत मुस्तर्द करदी जिस के बाद यदि यूरप्पा के पास ख़ुदसपुर्दगी के इलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं रहा चुनांचे उन्हें ख़ुदसपुर्दगी के फ़ौरी बाद जेल मुंतक़िल करदिया गया था। इतवार को रात तक़रीबन 1 बजकर 40 मिनट पर यदि यूरप्पा ने सेना में तकलीफ़ की शिकायत की , उन्हें फ़ौरी सरकारी सिरी जया देवा इंस्टीटियूट आफ़ कार्डियो वयासकोलर साइंसेस ऐंड रिसर्च मुंतक़िल किया गया। यदि यूरप्पा को 2008-ए-में मुल़्क की जुनूबी रियासत कर्नाटक में पहली मर्तबा बी जे पी हुकूमत तशकील देने का एज़ाज़ हासिल है। उन्हें अराज़ी अस्क़ाम में लोक आयवकत अदालत की जानिब से माख़ूज़ किए जाने की बिना अपने ओहदा से मुस्ताफ़ी होना पड़ा था। उन्हें मुक़द्दमात की वजह से वो जेल गई। यदि यूरप्पा को हॉस्पिटल के आई सी यू में रखा गया है, जहां उन के मुख़्तलिफ़ तिब्बी मुआइना किए गई। लोक आयुकत ने यदि यूरप्पा के ख़िलाफ़ कुरप्शन के पाँच मुक़द्दमात के मिनजुमला दो में गिरफ़्तारी वारंट जारी किया।

TOPPOPULARRECENT