Saturday , August 19 2017
Home / India / ‘यादें याद आती हैं’ नई पीढ़ी की सराहना की एक नई परंपरा: इब्न कंवल

‘यादें याद आती हैं’ नई पीढ़ी की सराहना की एक नई परंपरा: इब्न कंवल

नई दिल्ली, “यादें याद आती हैं ‘में तनवीर अहमद ने नई पीढ़ी के लेख के संयोजन से उन्हें प्रेरित करने की एक नई परंपरा शुरू की है। इस कदम का स्वागत किया जाना चाहिए। यह विचार उर्दू विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय के अध्यक्ष प्रोफेसर इब्ने कंवल ने ‘यादें याद आती हैं’ के विमोचन के अवसर पर व्यक्त किया। ग़ालिब अकादमी में आयोजित पुस्तक विमोचन कार्यक्रम में अपना अध्यक्षीय भाषण पेश करते हुए उन्होंने कहा कि “जो लोग उर्दू से सीधे जुड़े नहीं हैं और उर्दू के लिए लिख रहे हैं और काम कर रहे हैं वे उर्दू वालों से अधिक बधाई के पात्र हैं। भारत में ऐसे धुरंधरों की कमी नहीं है।

कार्यक्रम में मौजूद दर्शकों की बड़ी संख्या को संबोधित करते हुए अध्यक्ष, उर्दू विभाग, जामिया मिलिया इस्लामिया, प्रोफेसर शहपर रसूल ने कहा कि आज के इस दौर में इस तरह के काम की पर्याप्त सराहना होनी चाहिए । उन्होंने यह भी कहा कि “लेखक के अनुसार यह किताब उनके दोस्तों के लिए एक उपहार है जिनके लेख शामिल किए गए हैं। यह देखकर खुशी होती है कि इस दौर में ऐसे लोग भी शामिल हैं जो दोस्तों के लिए कुछ कर गुजरते हैं और उनमें तनवीर अहमद को शामिल करता हूं जिन्होंने अपनी इस खूबसूरत किताब से हमें प्रभावित किया है।

“इस मौके पर जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के वरिष्ठ प्रोफेसर ख्वाजा मोहम्मद इकराम उद्दीन ने तनवीर अहमद की इस बात के लिए प्रशंसा की कि उन्होंने किताब को न केवल सुंदर बनाया है बल्कि मुख्य पन्ने पर सभी लेखकों के नाम प्रकाशित कर एक नई परंपरा स्थापित करने की कोशिश की है। उन्होंने कहा कि “एक किताब के कवर पर सभी लेखकों का नाम होना परंपरा से हटकर जरूर है लेकिन एक अच्छा प्रयास है।

इससे पहले तनवीर अहमद ने अपने विचार व्यक्त किया और सभी प्रतिभागियों और अतिथियों का स्वागत करते हुए उनका धन्यवाद किया। उन्होंने अपने छोटे लेकिन व्यापक भाषण में कहा कि “यह तो मेरे दोस्तों के लेख का आकर्षण और शैली लेखन था जिसने मुझे यह सोचने पर मजबूर किया कि क्यों न उसे इकट्ठा किया जाए। मैंने ‘यादें याद आती हैं’ के मामले में स्पष्ट शब्दों में लिख दिया है कि ‘द संडे इंडियन’ में एक खंड था ‘नौ रस’ जिसके लिए शोध विद्वानों से लेख में ही लिखवाया था मेरे ऊपर इन सभी अनुसंधान विद्वानों के परोपकार हैं जिन्होंने मेरी एक अनुरोध पर अपने बहुमूल्य समय मुझे भेंट कर दिए। अब उनके परोपकार का बदला तो चुका नहीं सकता था तो मैंने सोचा कि उन्हें ‘उपहार’ ही पेश कर दिया जाए। मानो कि यह मेरी ओर से उपहार है मेरे दोस्तों के लिए।”

इस अवसर पर एक नई बात यह देखने को मिली कि नई पीढ़ी के लेखन में शामिल इस पुस्तक में दो रिसर्च विद्वानों ने लघु थीसिस पेश किए। नुसरत अमीन (जेएनयू) और राहीन शमा (जामिया मिलिया इस्लामिया) ने किताब के कई कोनों पर प्रकाश डाला जिसे न केवल दर्शकों ने बल्कि अतिथियों ने भी पसंद किया। कार्यक्रम की शुरुआत क़ारी अहसन जमाल के तिलावत क़ुरआन से हुई। इस अवसर पर आधुनिक लहजे के प्रसिद्ध कवि रऊफ रजा और उर्दू दुनिया के बेहद लोकप्रिय कवि बेकल उत्साही के निधन पर शोक व्यक्त किया गया और एक मिनट का मौन धारण किया गया। मंच संचालन अनस फ़ैज़ी ने किया। उल्लेखनीय है कि किताब में शामिल अधिकतर लेखक पुस्तक विमोचन समारोह में उपस्थित रहे जिन्हें सम्मानित किया गया।

TOPPOPULARRECENT