Saturday , September 23 2017
Home / Featured News / युपी में इत्तेहाद के लिए ईद बाद हो सकती है मुसलमानो की बड़ी रैली, शिया-सुन्नी होंगे एक साथ

युपी में इत्तेहाद के लिए ईद बाद हो सकती है मुसलमानो की बड़ी रैली, शिया-सुन्नी होंगे एक साथ

लखनऊ । आज मुस्लिम समुदाय के एकता की दिशा में सबसे महत्वपूर्ण क़दम उठाते हुए बरेलवी आलिम मौलाना तौकीर रज़ा खान ने दारुल उलूम का दौरा किया था , दौरे के बाद युपी के मुसलमानो ने तौकीर रज़ा खान के इस दौरे का खुले दिल से सवागत किया खबर के मुताबिक,
उत्तर प्रदेश की समाजवादी सरकार द्वारा मुसलमानों से किए गए चुनावी वादों को पूरा न किए जाने के ख़िलाफ़ लखनऊ में एक बड़ी रैली आयोजित किये जाने पर मुस्लिम नेताओं के बीच विचार विमर्श चल रहा है ।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

यूपी की राजधानी लखनऊ में मजलिसे ओलमए हिन्द के महासचिव और शिया मुसलमानों के वरिष्ठ धर्मगुरू मौलाना सय्यद कल्बे जवाद नक़वी इमाम जुमा लखनऊ के आवास पर मुस्लिम धर्मगुरूओं और समाजिक कार्यक्रताओं की हुई एक आपातकालीन बैठक में प्रदेश की समाजवादी सरकार द्वारा मुसलमान के साथ किए गए धोके के विरुद्ध एक विशाल रैली के आयोजन का निर्णय लिया गया है।

मुस्लिम नेताओं की राय है कि मुसलमानो की आवाज़ बुलंद करने के लिए मुस्लिमो को आपसी भेदभाव छोड़कर एक मंच पर आना होगा । सम्भावना है कि प्रस्तावित रैली में शिया सुन्नी दौनो तरफ के धर्म गुरुओं के आलावा बड़ी संख्या में बुद्धजीवी भी हिस्सा लेंगे ।

लखनऊ से प्राप्त समाचारों के अनुसार मौलाना कल्बे जवाद के आवास पर हुई बैठक में विश्व प्रख्यात वक्ता मौलाना हबीब हैदर ने यूपी की समाजवादी द्वारा जारी अल्पसंख्यकों के अधिकारों के हनन और मुसलमानों से किए चुनावी वादों को पूरा न करने के संबंध में एक रैली का प्रस्ताव रखा जिसे बैठक में शामिल सभी धर्मगुरूओं और बुद्धिजीवियों ने सर्वसम्मति के साथ स्वीकार कर लिया।

प्राप्त सूचना के अनुसार बैठक के समापन पर मौलाना कल्बे जवाद ने रैली की तैयारी की घोषणा करते हुए लखनऊ के ज़िलाधिकारी को अनुमति के लिए पत्र भी भेज दिया है। मौलाना के सचिव फ़राज़ नक़वी ने बताया कि रैली के संबंध में सभी आवश्यक मामलों को पूरा करने की तैयारी आरंभ कर दी गई है।

बैठक में शामिल धर्मगुरूओं और बुद्धिजीवियों ने कहा कि जिस तरह प्रदेश की वर्तमान सरकार मुसलमानों के अधिकारों की अंदेखी कर रही है और अल्पसंख्यकों से किए चुनावी वादों को भूला बैठी है उसी तरह पूरे राज्य के मुसलमान आने वाले चुनाव में इनकी अंदखी कर के उनको वोट देना भूल जाएंगे, क्योंकि अब मुसलमानों को समझ लेना चाहिए कि इस अत्याचार का जवाब कैसे देना है।

साभार: लोकभारत डॉट कॉम

TOPPOPULARRECENT