Monday , October 23 2017
Home / Crime / यूपीः सैकडों की भीड़ में गोलियों से किया छलनी

यूपीः सैकडों की भीड़ में गोलियों से किया छलनी

इलाहाबाद के नैनी जेल से पेशी पर लाए गए मूजरिम आसिफ जायदा पर जुमे के रोज़ रेलवे स्टेशन पर पुलिस कस्टडी में ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी गईं। बंदी की सेक्युरिटी में आए पुलिस अहलकार गोलियां चलते ही भाग खड़े हुए। सरेआम हजारों मुसाफिरों

इलाहाबाद के नैनी जेल से पेशी पर लाए गए मूजरिम आसिफ जायदा पर जुमे के रोज़ रेलवे स्टेशन पर पुलिस कस्टडी में ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दी गईं। बंदी की सेक्युरिटी में आए पुलिस अहलकार गोलियां चलते ही भाग खड़े हुए। सरेआम हजारों मुसाफिरों के बीच हुई वारदात से स्टेशन पर भगदड़ मच गई।

वारदात को अंजाम देकर तीनों हमलावर पैदल ही फरार हो गए। ज़ख्मी बंदी को मेरठ के एक हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां उसे मुर्दा ऐलान कर दिया गया। शहर कोतवाली इलाके के खादरवाला के साकिन आसिफ जायदा वल्द यासीन शातिर मुजरिम था। उस पर क़त्ल , लूट, अगवा और रंगदारी के दो दर्जन से ज़्यादा मुकदमे दर्ज हैं।

आसिफ को अगस्त 2013 में इलाहाबाद की नैनी जेल में ट्रांसफर कर दिया गया था। गुजश्ता पांच साल से जेल में बंद शातिर को जुमे के रोज़ शहर कोतवाली इलाके में हुए एक क़त्ल के मामले में इलाहाबाद पुलिस पेशी पर लेकर आई थी। जायदा के खिलाफ फास्ट ट्रैक कोर्ट 2 में सुनवाई हुई।

इलाहाबाद पुलिस के हेड कांस्टेबल ब्रजकिशोर मिश्रा की कियादत में कांस्टेबल चंद्रसेन सिंह, कमलेश राय, जयहिंद आजाद और दीपेश कुमार आसिफ जायदा को कचहरी से लेकर मुजफ्फरनगर रेलवे स्टेशन पहुंचे थे। टीम को शाम 5.30 पर देहरादून-बांद्रा एक्सप्रेस पकड़कर गाजियाबाद पहुंचना था, जहां से उन्हें इलाहाबाद रवाना होना था।

5:15 बजे पुलिस कचहरी से निकले, आसिफ जायदा से मिलने उसका वालिदैन यासीन अपने दूसरे बेटे के साथ स्टेशन पहुंचे थे। जैसे ही ट्रेन के आने के आने का एनाउंस हुआ, पुलिसअहलकार जायदा को लेकर प्लेटफॉर्म नंबर एक पर बने आरपीएफ थाने के करीब पहुंची।

इसी दौरान पीछे से आए तीन बदमाशों ने जायदा पर पिस्टल और तमंचों से ताबड़तोड़ गोलियां बरसा दीं। एकाएक हुए हमले से इलाहाबाद पुलिस के सिपाही भाग खड़े हुए और स्टेशन पर भगदड़ मच गई। प्लेटफार्म नंबर दो पर हजारों मुसाफिर ट्रेन के इंतजार में खड़े थे।

ऐनी शाहिदीन के मुताबिक बंदी को लेकर आए इलाहाबाद पुलिस ने बदमाशों से कोई मुकाबला नहीं किया। सेक्युरिटी गार्ड के कंधों पर ही हथियार लटके रह गए। हमलावर बेखौफ तरीके से वारदात को अंजाम देकर पैदल ही स्टेशन के सामने से रोडवेज की ओर जाने वाली गली से फरार हो गए।

हड़बड़ाए पुलिसअहलकार जैसे-जैसे लहूलुहान आसिफ को ई-रिक्शा में लादकर जिला अस्पताल ले गए। आसिफ को तीन गोलियां लगी थी। नाज़ुक हालत में उसे मेरठ रेफर कर दिया गया, जहां आनंद हॉस्पिटल पहुंचने पर डाक्टरों ने उसको मुर्दा ऐलान कर दिया।

इत्तेला पर एसएसपी केबी सिंह, एसपी सिटी श्रवण कुमार और सीओ सिटी संजीव वाजपेयी समेत कई थानों की पुलिस स्टेशन पहुंची।

TOPPOPULARRECENT