Monday , September 25 2017
Home / Bihar/Jharkhand / यूपी एसेम्बली इलेक्शन में भाजपा को पटखनी देने के लिए कई और पार्टियाँ तैयार

यूपी एसेम्बली इलेक्शन में भाजपा को पटखनी देने के लिए कई और पार्टियाँ तैयार

पटना : यूपी के एसेम्बली इन्तिखाब में बिहार के वज़ीरे आला नीतीश कुमार बड़ी किरदार निभायेंगे. इसके साथ ही 2019 में होनेवाले लोकसभा इलेक्शन में भाजपा को घेरने में उनकी अहम् किरदार होगी. इसकी शुरुआत इसी माह से होनेवाली है. रामनवमी के बाद जदयू, चौधरी अजित सिंह के राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) और बाबूलाल मरांडी के झारखंड विकास मोरचा (जेवीएम) का एक ही पार्टी में मिल कर नयी पार्टी की एलान हो जायेगी. इस मौके पर तीनों दलों के कौमी सदर मुश्तरका प्रेस कांफ्रेंस में नयी पार्टी के नाम का एलान करेंगे. तीनों पार्टियों की मकसद है कि इस प्रेस कांफ्रेंस में वज़ीरे आला नीतीश कुमार भी मौजूद रहें. इसके लिए नीतीश कुमार से दरख्वास्त किया जा रहा है.इसी माह तीनों पार्टियों का मथुरा के वृंदावन में मुश्तरका कांफ्रेंस बुलाया जायेगा जिसमें पार्टी के नये सदर चुने जायेंगे.इसके पहले अगले सप्ताह तक रालोद और जेवीएम की अलग-अलग बैठक होगी, जिसमें दीगर मसलों के अलावा विलय पर मंजूरी देने के लिए रालोद चौधरी अजित सिंह को और जेवीएम बाबूलाल मरांडी को अधिकृत करेगा. जदयू पहले ही दिल्ली की बैठक में कौमी सदर शरद यादव को इसके लिए अधिकृत कर चुका है.

अगले साल होनेवाले यूपी एसेम्बली के इलेक्शन और 2019 के लोकसभा इलेक्शन में भाजपा को पटखनी देने के लिए नये दल के साथ आने को यूपी की कई और पार्टियां तैयार है. अपना पार्टी की कौमी सदर कृष्णा पटेल ने भी नीतीश कुमार के कियादत में आस्था प्रकट कर नये दल के साथ आने की ख्वाहिश जतायी है. डॉ मोहम्मद अयूब की सदारत वाली पीस पार्टी ने भी नये दल के साथ आने की ख्वाहिश जतायी है. 2012 के यूपी एसेम्बली इन्तिखाब में पीस पार्टी 2.35 फीसद वोट के साथ चार सीटें जीती थीं. साबिक वज़ीरे आज़म वीपी सिंह की

अगुआई में बने किसान मंच ने भी नीतीश कुमार के साथ यकीन ज़ाहिर की है. जदयू के कौमी तर्जुमान केसी त्यागी ने बताया कि किसान मंच ने भी नीतीश कुमार के साथ काम करने की बात कही है. तीनों पार्टियों की विलय की आखरी मरहले में है. मई के पहले सप्ताह से नीतीश कुमार यूपी में कई इजलास को खिताब करेंगे.
केसी त्यागी, राष्ट्रीय महासचिव, जदयू

TOPPOPULARRECENT