Tuesday , August 22 2017
Home / Bihar News / यूपी चुनाव में लालू-नीतीश की सियासी सोच अलग-अलग

यूपी चुनाव में लालू-नीतीश की सियासी सोच अलग-अलग

आरजेडी उतर प्रदेश के चुनाव में नहीं उतरेगी. अभी तक जो संकेत मिल रहे हैं उससे साफ है कि आरजेडी अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव अपने आप को चुनाव से दूर ही रखेंगे. इसका मुख्य कारण राजनीति से ज्यादा रिश्तेदारी है. हालांकि बिहार में आरजेडी के साथ गठबंधन में शामिल जनता दल यू और कांग्रेस उत्तर प्रदेश चुनाव में दो-दो हाथ करने के लिए बिसात विछाना शुरू कर दिया है.

जेडीयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार उत्तर प्रदेश में अपनी पार्टी का बिगूल फूंक चुके हैं. शराबबंदी को मुद्दा बनाकर वो उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार को निशाना बनाना शुरू कर दिया है. कांग्रेस भी पूरे जोर-शोर के साथ उत्तर प्रदेश के चुनाव में उतर रही है. नए प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर बने तो मुख्यमंत्री के तौर पर शीला दीक्षित का नाम भी सामने आ गया है.

लेकिन राजनीति के धुरंधर लालू प्रसाद यादव एक दम चुप्पी लगा कर बैठे हैं. उतर प्रदेश चुनाव पर कुछ बोलना नहीं चाहते हैं, उनके सामने बड़ी दुविधा की स्थिति हो गई है. एक तरफ बिहार में महागठबंधन की सफलता है तो दूसरी तरफ उत्तर प्रदेश में रिश्तेदारों की सरकार. आरजेडी समझ नहीं पा रही है कि वो करे तो क्या करे.

आरजेडी पहले भी उतर प्रदेश चुनाव में अपने हाथ आजमा चुकी है. लेकिन इस बार स्थिति कुछ और है आरजेडी जब चुनाव लड़ी थी तब लालू प्रसाद यादव की बेटी मुलायम सिंह यादव परिवार की बहू नहीं बनी थीं. हालांकि मुलायम ने इस रिश्ते के बावजूद बिहार के चुनाव में न सिर्फ महागठबंधन से रिश्ता तोड़ा बल्कि इनके खिलाफ चुनाव भी लड़ा. शायद लड़के और लड़की वालों में यही फर्क सामाजिक रूप से है.

आरजेडी उतर प्रदेश चुनाव से अपने आपको अलग रखेगा, इस पर लालू प्रसाद यादव लगभग मन बना चुके हैं. पहले ये कयास लगाया जा रहा था कि बिहार में महागठबंधन के तर्ज पर ही उतर प्रदेश में चुनाव लड़ा जाएगा. लेकिन आरजेडी रिश्तेदारी के चक्कर में चुनाव से कन्नी काट रही है तो कांग्रेस अकेले दम पर अपनी नैया पार कराने की कोशिश में है. हालांकि सूत्रों की मानें तो जनता दल यू और कांग्रेस के बीच गठबंधन की कुछ संभावनाओं के बीज पड़ सकते हैं. जिसके सूत्रधार उतर प्रदेश में कांग्रेस के रणनीतिकार किशोर बन सकते हैं. क्योंकि प्रशांत किशोर की नीतीश कुमार से भी नजदीकी है. लेकिन अभी इस पर कुछ कहना जल्दी बाजी होगी.

TOPPOPULARRECENT