Monday , September 25 2017
Home / International / यूरोपियन यूनियन से अलग होने के बाद युनाइटेड किंगडम के टुकड़े होने के आसार

यूरोपियन यूनियन से अलग होने के बाद युनाइटेड किंगडम के टुकड़े होने के आसार

यूरोपियन यूनियन से अलग होने का फैसला करने वाले यूनाइटेड किंगडम के अब खुद दो टुकड़ों में बंट जाने की संभावनाएं हैं। स्कॉटलैंड की फर्स्ट मिनिस्टर निकोला स्टरजियोन ने शुक्रवार को कहा कि ब्रेग्जिट पर रेफरेंडम के बाद स्कॉटलैंड की आजादी पर एक बार फिर से जनमत संग्रह की संभावनाएं बढ़ गई हैं। 50 लाख लोगों की आबादी वाले स्कॉटलैंड ने ब्रेग्जिट के लिए हुए मतदान में यूके के यूरोपियन यूनियन में बने रहने के पक्ष में मतदान किया था।
स्कॉटलैंड के 62 पर्सेंट लोगों ने ब्रिटेन के ईयू न छोड़ने के पक्ष में मतदान किया, जबकि 38 पर्सेंट लोगों राय ब्रेग्जिट के पक्ष में थी। इसके उलट इंग्लैंड के 52 पर्सेंट लोगों ने ब्रेग्जिट के पक्ष और 48 फीसदी ने विरोध में मतदान किया था। स्कॉटलैंज की राजधानी एडिनबर्ग में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्टरजियोन ने कहा, ‘स्कॉटलैंड के लोगों ने ईयू में बने रहने का फैसला लिया, लेकिन उन्हें भी यूनियन से अलग होना पड़ रहा है। लोकतांत्रिक तौर पर यह अस्वीकार्य है।’ स्टरजियोन ने कहा, ‘मैं मानती हूं कि आजादी के रेफरेंडम की संभावनाएं बढ़ गई हैं।

यदि स्कॉटलैंड की आजादी के लिए जनमत संग्रह होता है तो इंग्लैंड के साथ उसका 300 साल पुराना यूनियन खत्म होने का खतरा बढ़ जाएगा। ऐसा होता है तो यह ग्रेट ब्रिटेन के लिए करारा झटका होगा, जो खुद ही ब्रेग्जिट के बाद नए सिरे से खुद को स्थापित करने में जुटा है। 2014 में आजादी के लिए हुए जनमत संग्रह में 55 पर्सेंट स्कॉटिश सिटिजन्स ने ब्रिटेन में रहने का फैसला लिया था, जबकि 45 फीसदी आजादी के पक्ष में थे।

TOPPOPULARRECENT