Monday , September 25 2017
Home / Hyderabad News / यौमे इंज़िमाम हैदराबाद: रियासत की फ़िज़ा को मुकद्दर करने की कोशिश

यौमे इंज़िमाम हैदराबाद: रियासत की फ़िज़ा को मुकद्दर करने की कोशिश

तेलंगाना में 17 सितंबर को यौमे जश्न के तौर पर मनाने से मुसलमानों के जज़बात मजरूह हो सकते हैं और यही वजहा है कि अलाहिदा रियासत तेलंगाना की तशकील से दो साल क़ब्ल ही नई रियासत में बरसरे इक़्तेदार हुक्मरान जमात टी आर एस पार्टी ने इस हस्सास मौज़ू पर शिद्दत पसंदी अख़तियार करने के बजाय मस्लिहत पसंदी से काम लिया।

मज़कूरा दिन को यौमे इंज़िमाम के तौर पर मनाने का ऐलान किया है और तेलंगाना की तशकील के बाद भी टी आर एस अपने मौक़िफ़ पर क़ायम रहते हुए रियासत की गंगा जमुनी तहज़ीब को फ़रोग़ दे रही है मगर रियासत में बाअज़ सरगर्म फ़िर्का परस्त सियासी जमातें उस दिन रियासत के फ़िज़ा को मुकद्दर करने की मुसलसल कोशिश कर रहे हैं जिस की तमाम सेक्युलर ज़हनीयत के हामिल अफ़राद की जानिब से मुज़म्मत ज़रूरी है।

तेलंगाना डेमोक्रिटेक ऐंड सेक्युलर अलाउंस के क़ाइदीन डॉक्टर चिरंजीवी कैप्टन पांडू रंगा रेड्डी राम दास के वेंकटेश राजिंदर मुहम्मद अली ने आज सोमाजी गुड़ा प्रैस कलब में रियासत हैदराबाद के इंडियन यूनीयन में इंज़िमाम पर जश्न मनाना किस हद तक इन्साफ़ होगा पर प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब के दौरान ये तास्सुरात पेश किए। डॉक्टर चिरंजीवी ने तेलंगाना में 17 सितंबर को यौमे जश्न के तौर पर मनाने वालों को तेलंगाना की अवाम का ग़दर क़रार दिया।

समाजी जहदकार और तेलंगाना तहरीक अलमबरदार राम दास ने रियासत हैदराबाद के इंडियन यूनीयन में इंज़िमाम को तेलंगाना का अज़ीम नुक़्सान क़रार देते हुए कहा कि इंज़िमाम के बजाय रियासत हैदराबाद ख़ुदमुख़तार ममलकत होती तो आज हम सऊदी अरब से ज़्यादा मालदार होते।

TOPPOPULARRECENT