Sunday , August 20 2017
Home / Jharkhand News / रांची में डेटोनेटर पांकी में लैंडमाइंस घाटशिला में 20 किलो का सिलेंडर बम बरामद

रांची में डेटोनेटर पांकी में लैंडमाइंस घाटशिला में 20 किलो का सिलेंडर बम बरामद

रांची : रांची पुलिस ने मंगल को तुपुदाना इलाके से डेटोनेटर और धमाके खेज आलात की बड़ी खेप बरामद की। छापामारी के दौरान वहां से नक्सली तंजीम पीएलएफआई का लेटर पैड भी बरामद किया गया। पुलिस ने यह छापामारी डाबर खान नामी सख्श की दुकान में की। उस वक़्त दुकान बंद थी।

पांकी में फिर बड़ी तादाद में लैंडमाइंस बरामद

पलामू-लातेहार सरहद पर पांकी थाना इलाक़े के खपरमंडा-होइयो रोड पर पुलिस ने सर्च मुहिम के दौरान मंगल को पांच लैंडमाइंस बरामद कर लिया। ये सभी सीरीज में जुड़े थे। पुलिस को खदशा है कि अभी सैकड़ों की तादाद में माइंस दबी पड़ी हैं। डीआईजी साकेत कुमार सिंह ने बताया कि इलाके में सर्च मुहिम चल रहा है।

एसपी मयूर पटेल ने बताया की बड़ी तादाद में लैंडमाइंस बरामद की गई हैं। कुछ को धमाका कर खत्म कर दिया गया है। जमीन से निकालने के बाद ही सही तादाद का पता चल पाएगा।

खपरमंडा-होइयो रोड पलामू के पांकी और लातेहार के मनिका को जोड़ता है। गुजिशता चार दिनों में पुलिस ने पांकी और हेरहंज इलाके से चार सौ से ज्यादा लैंडमाइंस बरामद किये हैं। सभी को धमाके कर खत्म कर दिया गया है।

घाटशिला में मिला 20 किलो का सिलेंडर बम

श्यामसुंदरपुर थाना तहत पीताजुड़ी के इंतेहाई नक्सल मुतासीर गुड़ाबांदा मार्ग में मंगल को एक सिलेंडर बम मिला। रांची से पहुंचे बम डिस्पोजल दस्ते ने उसे ब्लास्ट कर खत्म किया। एसडीपीओ संजीव कुमार बेसरा ने बताया कि पांच किलोग्राम वाले सिलेंडर में 20 किलो आइइडी भरा था। एएसपी (मुहिम) शैलेंद्र वर्णवाल ने इमकान ज़ाहिर की कि इस इलाक़े में और कुछ जगहों पर ऐसे बम लगे हो सकते हैं। इस खदशा के मद्देनजर पुलिस इलाके में गहन जांच मुहिम चलाएगी।

याद दिला दें कि पीर की सुबह श्यामसुन्दरपुर के रहने वाले वीरेन्द्रनाथ गिरि के खेत में धनरोपनी के लिए खेत की जोताई चल रही थी। इसी दौरान मिट्टी में दबा तार सतह पर आ गया। नजर पड़ते ही पुलिस को इत्तिला दी गई। तार तकरीबन 200 मीटर दूर तक फैला था।

मुक़ामी पुलिस ने हेड क्वार्टर को इत्तिला देकर बम स्क्वायड की मदद लेनी चाही लेकिन किसी वजह से टीम पीर की बजाय मंगल को यहां पहुंची। तब जाकर सिलेंडर बम को जमीन के अंदर से निकाला जा सका। इसे पीसीसी सड़क के नीचे दबाकर रखा गया था। इस रास्ते से होकर भी पुलिस के जवान गुड़ाबांदा के जंगल में नक्सलियों के खिलाफ छापेमारी करने जाते हैं।

पुलिस अफसर ने बताया कि बम काफी पहले लगाया गया था लेकिन तार देखकर ऐसा लगता है कि इसे सिलेंडर बम से हाल में जोड़ा गया था और माओवादियों की मंसूबा पुलिस के खिलाफ बड़ी वारदात को अंजाम देने की थी जिसे पुलिस ने नाकामयाब कर दिया। एएसपी ने कहा कि नक्सलियों के खिलाफ मुसलसल लांग रेंज पेट्रोलिंग (एलआरपी) चलायी जा रही है। नक्सलियों की मंशा को कामयाब नहीं होने दिया जाएगा।

 

 

TOPPOPULARRECENT