Tuesday , October 17 2017
Home / Khaas Khabar / राजनाथ सिंह के जायदाद ख़ाली नहीं रिमार्कस ग़ैर वाजिबी: येदि यूरप्पा

राजनाथ सिंह के जायदाद ख़ाली नहीं रिमार्कस ग़ैर वाजिबी: येदि यूरप्पा

सीनीयर बी जे पी क़ाइद राजनाथ सिंह के जायदाद नहीं के रिमार्कस(ब्यान/टिप्पणी)पर सख़्त रद्द-ए‍अमल ( किसी कार्यवाही के बाद दूसरी तरफ से होने वाली जवाबी कार्यवाही) का इज़हार करते हुए बी जे पी कर्नाटक के ताक़तवर क़ाइद बी एस येदि यूरप्पा

सीनीयर बी जे पी क़ाइद राजनाथ सिंह के जायदाद नहीं के रिमार्कस(ब्यान/टिप्पणी)पर सख़्त रद्द-ए‍अमल ( किसी कार्यवाही के बाद दूसरी तरफ से होने वाली जवाबी कार्यवाही) का इज़हार करते हुए बी जे पी कर्नाटक के ताक़तवर क़ाइद बी एस येदि यूरप्पा ने आज राजनाथ सिंह के रिमार्कस (को नाक़ाबिल-ए-क़बूल ( जो कुबूल के लायक ना हो) और ग़ैर वाजिबी क़रार दिया और कहा कि वो पार्टी में किसी ओहदा के मुतमन्नी(इच्छुक/ चाहने वाले) नहीं हैं।

यहां अख़बारी नुमाइंदों (पत्रकारों) से बातचीत करते हुए येदि यूरप्पा ने कहा कि उन्हों ने कभी भी किसी ओहदे की तमन्ना नहीं की जबकि बी जे पी क़ाइद के रिमार्कस ग़ैर वाजिबी हैं। साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक जिन्हें हालिया बोहरान के बाद ओहदे से इस्तीफ़ा देने के लिए मजबूर होना पड़ा था, कहा कि वो बहुत जल्द अपनी नाराज़गी के बारे में सिंह को एक मकतूब (खत/पत्र) तहरीर ( लिखना/लिखा हुआ पत्र) करेंगे।

कर्नाटक बी जे पी क़ियादत में कोई तब्दीली नहीं होगी जैसा कि येदि यूरप्पा के हामी ( मित्र/दोस्त) मुतालिबा कर रहे थे, पर तब्सिरा ( बातचीत) करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि कर्नाटक बी जे पी में कोई जायदाद मख़लवा नहीं है। राजनाथ सिंह ने कहा कि जायदाद कहां मख़लवा है ? डी वे सदानंद गौड़ा कर्नाटक में हमारे चीफ़ मिनिस्टर हैं।

उन्हों ने रांची एयर पोर्ट पर सवालात के दौरान अख़बारी नुमाइंदों ( पत्रकारों) को इस बात से वाक़िफ़ ( परिचित) करवाया। रिश्वत सतानी मुआमलात ( मामलों) और सी बी आई तहक़ीक़ात पर तब्सिरा करते हुए कर्नाटक के साबिक़ वज़ीर-ए-आला ( पूर्व मुख्य मंत्री) ने कहा कि उन्हें किसी की जानिब ( तरफ )से कोई हमदर्दी नहीं चाहीए।

उन्हों ने मज़ीद ( और भी) कहा कि ये उन के साथ हमदर्दी नहीं बल्कि उन की तहक़ीर (बदनामी) है और बेइज़्ज़ती है। येदि यूरप्पा जो कि 9 रियास्ती वुज़रा , 7 अरकान असेंबली के साथ बोहरान का शिकार हुए थे और ओहदे से मुस्ताफ़ी (इस्तीफा देने वाला) हो गए थे, चंद रोज़ क़ब्ल ( कुछ दिन पहले) कहा था कि उन्होंने अपने ओहदे से इस्तीफ़ा ( त्याग पत्र) देने के फ़ैसले को मुल्तवी ( रोक देना/आगे बढा देना) कर दिया था।

पार्टी आला क़ियादत के रवैय्ये पर तन्क़ीद करते हुए साबिक़ चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक बी एस येदि यूरप्पा ने कहा कि वो 24 मई को मुंबई में मुनाक़िद होने वाले बी जे पी क़ौमी आमिला ( राष्ट्रीय कार्यकारिणी ) के इजलास ( सभा) में शिरकत नहीं करेंगे और जनरल सेक्रेटरी अनंत कुमार के ख़िलाफ़ मुहिम (योजना) का आग़ाज़ करें जबकि वो पार्टी की ग़लत रहनुमाई ( मार्ग दर्शक) कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT