Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / राजीव गांधी के ताल्लुक से जो भी कहा वह हकायक पर मबनी: मोदी

राजीव गांधी के ताल्लुक से जो भी कहा वह हकायक पर मबनी: मोदी

भारतीय जनता पार्टी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी ने कहा कि साबिक पीएम राजीव गांधी के ताल्लुक में उन्होंने जो भी कहा वह हकायक पर मबनी है और अगर इसमें कुछ गलत साबित हुआ तो वह मांफी मांगने को तैयार हैं |

भारतीय जनता पार्टी के पीएम कैंडीडेट नरेंद्र मोदी ने कहा कि साबिक पीएम राजीव गांधी के ताल्लुक में उन्होंने जो भी कहा वह हकायक पर मबनी है और अगर इसमें कुछ गलत साबित हुआ तो वह मांफी मांगने को तैयार हैं |

मोदी ने एक ज़ाती टीवी चैनल को दिए इंटरव्यू में प्रियंका गांधी के नीच सियासत जुमले के ताल्ल्लुक में हो रही सियासत पर पूछे गए सवाल के जवाब में कहा, मैंने जो कुछ भी कहा है वह सही है और उसमें अगर कुछ भी गलत निकला तो मैं मांफी मांगने को तैयार हूं मेरी बात में कुछ भी गलत नहीं है | मैंने जो भी इत्तेला दी है वह सच है. इस बारे में सच्चाई जाननी है तो इससे जुडे हकायक भी मौजूद हैं |

उन्होंने कहा, मैंने कहा था कि हैदराबाद हवाई अड्डे पर आंध्र प्रदेश के एक वज़ीर की तौहीन की गयी थी क्या आप इस सच्चाई को नकार सकते हैं. क्या मुल्क की जनता को सच्चाई बताना गलत है|

एक दूसरे सवाल के जवाब में मोदी ने इलेक्शन कमीशन को आडे हाथ लेते हुए कहा कि अगर कमीशन कहता है कि उन्हें वाराणसी में सेक्युरिटी की वजह से रैली की इज़ाज़त नहीं दी गई है तो मरकज़ की हुकूमत के दो सीनीयर वज़ीर ने किस बुनियाद पर कहा था कि इस रैली के लिए मुनासिब सेक्युरिटी का इंतेज़ाम किया गया था|

इलेक्शन कमीशन से तकरार के चलते उन्होंने जुमेरात को वाराणसी में रोड शो किया. रोड शो बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के सामने से शुरू हुआ शो शुरू होने से पहले भाजपा कारकुन नरेन्द्र मोदी को शहर में रैली नहीं करने की इजाजत देने वाले जिला मजिस्ट्रेट और रिटर्निग ऑफिसर को हटाने की मांग को लेकर धरने पर बैठे हुए थे|

रोडशो बीएचयू के सामने से शाम छह बजे शुरू हुआ और भाजपा के दफ्तर पर जाकर खत्म हुआ. महज चार किलोमीटर की दूरी को पूरी करने में तीन घंटे से ज्यादा वक्त लग गया|

इससे पहले, इलेक्शन कमीशन पर निशाना लगाते हुए कहा कि वह सियासत के दबाव में काम कर रहा है, इसलिए उन्हें वाराणसी में रैली करने की इजाजत नहीं दी गई. मोदी ने कहा, मुझे नहीं मालूम की कमीशन किसके दबाव में काम कर रहा है मेरे तकरीर देने से क्या दुनिया डूब जाएगी?

वाराणसी के रोहिणिया में इंतेखाबी रैली से खिताब करते हुए मोदी ने कहा कि मेरी तकरीर से ज्यादा मेरी खामोशी में ताकत है मैं बनारस में तकरीर देने वाला था, लेकिन जो लोग पहले ही मैदान छोड़कर भाग चुके हैं, वे मोदी को बर्दाशत नहीं कर सकते. वे मोदी का चेहरा भी नहीं देख सकते|

उन्होंने कहा, मैं और जलास करना चाहता था, लेकिन जो लोग मोदी से डर गए हैं उन्होंने मुझे रोकने की कोशिश की. इसके लिए उन्होंने जो तर्क दिए, वह यकीन करने लायक नहीं है. उनका तर्क था की सेक्युरिटी के चलते मैं रैली से खिताब नहीं कर सकता|

उन्होंने पूछा, इस जगह से वाराणसी कितना दूर है? 12 किलोमीटर जब मुझे यहां खतरा नहीं है तो शहर के अंदर कैसे हो सकता है. जब मैं माओवादी इलाकों से लेकर जम्मू कश्मीर गया और मुझे वहां कोई खतरा महसूस नहीं हुआ तो यहां कैसे हो सकता है|

मोदी ने पूछा की क्या बाप-बेटे (मुलायम-अखिलेश) की सरकार एक आदमी को सेक्युरिटी नहीं दे सकती. यहीं नहीं, उन्होंने मुझे मां गंगा के पास नहीं जाने के लिए भी कहा|

कांग्रेस पर निशाना लगाते हुए उन्होने कहा, जनता ने आपको हरा दिया है, इलेक्शन कमीशन आपको जीत नहीं दिलवा सकता |

उन्होने कहा, मैं हुक्मरान नहीं, खिदमतगार बनकर आया हूं. मेरा एजेंडा सिर्फ तरक्की है. बनारस के लोगों ने सूरत (गुजरात) को सिखाया. वाराणसी का वकार वापस लाना है. जिस तरह मगरिब के इलाके तरक्की हैं, ठीक उसी तरह यहां की तरक्की करना है|

मुखालिफो पर निशाना साधते हुए मोदी ने कहा कि दूसरों की तरह मैं गालियां देने में वक्त बर्बाद नहीं करना चाहता हूं|

गंगा नदी के लिए बोलते हुए उन्होंने कहा की वह कैसे मैली हो सकती है. गुजरात में जिस तरह साबरमती को बदला, वैसे ही गंगा को बदलूंगा|

मोदी ने कहा कि मुल्क का मशरिकी हिस्सा कमजोर है. पूर्वाचल, ओडिसा, मगरिबी बंगाल और बिहार कमजोर रियासत हैं इन्हें भी मजबूत रियासत बनाना है| बुनकरों की हालत पर बोलते हुए कहा कि उन्हें और मौके मिलने चाहिएं|

TOPPOPULARRECENT