Tuesday , October 24 2017
Home / Khaas Khabar / राम मंदिर मुद्दा अजेंडे में रहेगा : अमित शाह

राम मंदिर मुद्दा अजेंडे में रहेगा : अमित शाह

लखनऊ, 14 जून: आइंदा लोकसभा इंतेखाबात में बीजेपी के अजेंडे में राम मंदिर का मुद्दा बरकरार रहेगा। यह बात जुमेरात के दिन लखनऊ में बीजेपी के रियासती इंचार्ज और गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी के रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर देखे जा रहे अमित शा

लखनऊ, 14 जून: आइंदा लोकसभा इंतेखाबात में बीजेपी के अजेंडे में राम मंदिर का मुद्दा बरकरार रहेगा। यह बात जुमेरात के दिन लखनऊ में बीजेपी के रियासती इंचार्ज और गुजरात के सीएम नरेंद्र मोदी के रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर देखे जा रहे अमित शाह ने कही। हालांकि उन्होंने नरेंद्र मोदी के यूपी से इलेक्शन लड़ने के सवाल पर कुछ भी साफ नहीं किया।

रियासती इंचार्ज के ओहदे की जिम्मेदारी मिलने के बाद पहली मर्तबा लखनऊ पहुंचे अमित शाह ने पिछले दो दिनों में बीजेपी के जिलों से लेकर रियासत के ओहदेदारों और आवामी नुमाइंदो के साथ बैठक की। लोकसभा इलेक्शन में बीजेपी की जीत का रास्ता कैसे साफ किया जाए, इस सवाल पर राय-मशवरा हुआ।

मीडिया से बातचीत में शाह से जब लोकसभा इंतेखाबात में राम मंदिर मुद्दे को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इस अजेंडे को लेकर पार्टी जो भी तय करेगी, उसके मुताबिक ही काम किया जाएगा। अपनी फिर्कावाराना इमेज को लेकर किए गए सवाल पर शाह ने कहा कि उनके आने से यूपी में किसी भी तरह का फिर्कावाराना रंग नहीं चढे़गा।

अमित शाह ने कहा कि कि आडवाणी जी का चैप्टर अब पूरी तरह से क्लोज हो गया है। उनके इस बात को जब साफ करने को कहा तो उनको लगा कि शायद वह कुछ गलत बोल गए हैं। उन्होंने अपनी बात को दुरुस्त करते हुए कहा कि मोदी के चैप्टर क्लोज करने का मतलब यह है कि जो भी बीते दिनों हुआ अब वह कुछ भी नहीं है।

अमित शाह ने कहा कि वह मोदी का किरदार ( रोल) अब सिर्फ यूपी या गुजरात तक ही नहीं रहेगा। उनका रोल तो अब पूरे मुल्क में तय हो गया है। आने वाले इलेक्शन में इसका असर भी दिखेगा।

अमित शाह से जब यूपी में सीटों के जीतने के बारे में सवाल किया तो उन्होंने कहा कि अभी इस बारे कहना बहुत मुश्किल है। हालांकि उन्होंने इतना जरूर कहा कि अभी टिकट बंटवारे को लेकर कोई फैसला नहीं लिया गया है लेकिन इतना तय है कि जो भी पार्टी उम्मीदवार मैदान में होंगे वह फतह हासिल करेंगे।

उन्होंने कहा कि यूपीए के साथ में एसपी और बीएसपी मिली हुई है। जब‍जब मरकज़ी हुकूमत पर मुसीबत पड़ी तो यूपी की इन दोनों पार्टियों ने खुलकर साथ दिया। दोनों पार्टियों ने अपने मुफाद के लिए आम आदमी की कमर तोड़ने वाली हुकूमत की हर वक्त ताइद की।

शाह ने कहा कि यूपी से मायावती को लोगों ने इस वजह से हटाया था कि उनकी हुकूमत में करप्शन था लेकिन एसपी की हुकूमत बनते ही गुंडागर्दी आम हो गई। आम आदमी तो दूर पुलिस ही खुद गुंडों की भेंट चढ़ने लगी।

——–बशुक्रिया: नवभारत टाइम्स

TOPPOPULARRECENT