Tuesday , September 26 2017
Home / Delhi / Mumbai / राष्ट्रवाद पर बहस व तकरार में भाजपा की जीत

राष्ट्रवाद पर बहस व तकरार में भाजपा की जीत

नई दिल्ली:राष्ट्रवाद पर आदर्शवादी लड़ाई को आगे बरखाने का संकल्प करते हुए केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कहा कि भाजपा ने पहला राउंड जीता है क्योंकि जिन लोगों ने विरोधी भारत नारे बुलंद किए थे अब वह ” भारत माता की जय ” न सही ” जय हिंद ” कहने पर मजबूर हो गए हैं।

राष्ट्रवाद के मुद्दे को फिर उठाते हुए अरुण जेटली ने उपाध्यक्ष कांग्रेस राहुल गांधी को भी आड़े हाथों लिया जिन्होंने वहाँ एक विरोध प्रदर्शन में देशद्रोही नारे लगाए जाने के बाद दौरा किया था। उन्होंने कहा कि कुछ लोग सावरकर के सिद्धांत राष्ट्रवाद पर सवाल उठा रहे हैं जिन्होंने करोड़ों भारतीयों में उत्साह और उल्लास बनाया था और ये लोग वही हैं जो भारत की बर्बादी के नारे लगाने वालों के समर्थक हैं।

दिल्ली भाजपा की कार्यकारिणी की बैठक को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री जेटली ने कहा कि हमें एक बड़ी चुनौती का सामना है। यह एक वैचारिक लड़ाई है और हम इस लड़ाई के पहले दौर में जीत हासिल कर ली। क्योंकि देश दुश्मन नारे लगाने वाले अब ” जय हिंद ” कहने पर उतारू हो गए उन्हें भारत माता की जय पर आपत्ति है।

ये लोग अब जय हिंद कहते हुए देशभक्ति का प्रदर्शन तो कर रहे हैं। यह हमारी आदर्शवादी जीत है। अरुण जेटली ने कहा कि भाजपा के राष्ट्रवाद सिद्धांत उत्साह से समर्पित है। लेकिन विडंबना यह है कि देश तोड़ने की बात करने वाले व्यक्त विचार की स्वतंत्रता की मांग कर रहे हैं।

हालांकि ऐसा कानून या संविधान किसी दूसरे देश में नहीं है और यह राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में ही हुई है दिल्ली में अनुसूचित जातियों और आदिवासी और महिलाओं तक पहुँचने पार्टी कार्यकर्ताओं को सलाह देते हुए उन्होंने कहा अगले कुछ दिनों में अप योजना शुरू की जाने वाली है जिसके तहत प्रत्येक बैंक शाखा की ओर से एस सी / एस टी और महिलाओं को एक करोड़ रुपये का कर्ज दिया जाएगा ताकि वे कोई व्यापार शुरू करते हुए उद्योगपति बन जाएं।

कांग्रेस की आलोचना करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि वह देश भर में अपनी नींव खोते जा रही है और जनता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नारा कांग्रेस मुक्त भारत को हकीकत में तब्दील कर रहे हैं। मोदी ने एक बार कहा था कि भारत को कांग्रेस मुक्त कर दिया और अब कांग्रेस अरुणाचल प्रदेश से बेदखल हो गई और उत्तराखंड में भी बहुत जल्द रूबा गिरावट हो जाएगी और प्रस्तावित केरल और असम के विधानसभा चुनाव में भी उसका बोरया बिस्तर गोल हो जाएगा और मतदाता नरेंद्र मोदी के सपनों को साकार करेंगे।

TOPPOPULARRECENT