Wednesday , August 16 2017
Home / Khaas Khabar / राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में पहली बार बीजेपी नेता की एंट्री, शुरू हुआ विवाद

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग में पहली बार बीजेपी नेता की एंट्री, शुरू हुआ विवाद

भारतीय जनता पार्टी के नेता अविनाश राय खन्ना को जल्द ही राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का सदस्य बनाया जा सकता है। इंडियन एक्सप्रेस अखबार के मुताबिक, भाजपा उपाध्यक्ष अविनाश राय खन्ना की अगले कुछ दिनों में आयोग सदस्य के रूप में नियुक्ति हो सकती है। यह पहली बार होगा जब किसी राजनेता को आयोग का सदस्य बनाया जा रहा है। अविनाश राय को जिस पोस्ट पर रखा जा रहा वह पिछले दो साल से खाली है। अविनाश राय भाजपा के उपाध्यक्ष हैं और जम्मू कश्मीर में पार्टी इंचार्ज हैं।

गौरतलब है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग का अध्यक्ष सदस्य एक उच्च स्तरीय कमेटी द्वारा चुना जाता है, जिसके अध्यक्ष प्रधानमंत्री होते है। इसमें लोकसभा स्पीकर, केंद्रीय गृहमंत्री, लोकसभा में विपक्ष के नेता, राज्यसभा के विपक्ष के नेता और राज्यसभा के उपसभापति शामिल होते हैं। बताया जाता है कि पिछले महीने बैठक हुई थी। उस मीटिंग में अविनाश के अलावा कुछ और नामों की भी चर्चा हुई थी पर उनमें से अविनाश का नाम फाइनल किया गया। अविनाश राय का नाम बिना किसी विरोध के फाइनल हुआ।

संविधान के मुताबिक, किसी भी पूर्व चीफ जस्टिस को आयोग का चेयरपर्सन बनाया जा सकता है। इसमें चार फुल टाइम मेंबर होते हैं। इसमें सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज, हाई कोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस के अलावा दो और सदस्य शामिल होते हैं, जिन्हें मानव अधिकार से संबंधी जानकारी होनी चाहिए। एक पूर्व आयोग सदस्य ने नाम सामने न आने की शर्त पर बताया अविनाश राय का नाम आने के बाद विरोध होना लाज़िमी है। किसी राजनेता के इसमें शामिल होने पर कोई रोक नहीं है। लेकिन फिर भी उनको चुनना सवालों के घेरे में है। यह गलत संदेश देता है। क्या कमेटी को कोई ऐसा नहीं मिला जिसका राजनीति से कोई संबंध ना हो?

TOPPOPULARRECENT