Monday , August 21 2017
Home / Delhi / Mumbai / राष्ट्रीय राजधानी में जंगलराज कायम

राष्ट्रीय राजधानी में जंगलराज कायम

नई दिल्ली: मुख्यमंत्री दिल्ली अरविंद केजरीवाल ने लेफ्टिनेंट गवर्नर नजीब जंग की आलोचना करते हुए आरोप लगाया कि वह दिल्ली में कानून व्यवस्था की दराल पर ध्यान नहीं दे रहे हैं और उनकी सरकार के कामकाज में रुकावट पैदा कर रहे हैं। मुख्यमंत्री दिल्ली का यह प्रतिक्रिया ऐसे समय आया है जब लेफ्टिनेंट गवर्नर ने आम पार्टी आदमी सरकार के कुछ अधिकारियों और सलाहकारों के भर्ती के बारे में जानकारी मांगी थी।

यह आरोप लगाते हुए कि दिल्ली में बलात्कार की घटनाओं और अन्य अपराधों में वृद्धि हो रही है। केजरीवाल ने कहा कि कानून व्यवस्था की अवधारण लेफ्टिनेंट गवर्नर की जिम्मेदारी है। उन्होंने बताया कि ऐसा मालूम होता है कि शहर में कोई कानून और पुलिस नहीं है और जंगल राज चल रहा है।

मुख्यमंत्री ने भी एक पत्र रवाना करते हुए लेफ्टिनेंट गवर्नर से पूछा कि दिल्ली में बलात्कार की घटनाओं को रोकने और कानून व्यवस्था में सुधार के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं। और यह कहा कि कानून व्यवस्था के मुद्दे पर वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री राजनाथ सिंह से कब मिलेंगे यह इंगित करते हुए कि दिल्ली में कानून व्यवस्था की अवधारण के लिए केंद्र सरकार भी जिम्मेदार है।

केजरीवाल ने सवाल किया कि क्या कभी प्रधानमंत्री और गृहमंत्री ने राजधानी में भ्रमित कानून व्यवस्था की स्थिति पर चिंता व्यक्त की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि मेरे पत्र का बहुत जल्द जवाब दिया जाएगा ताकि जनता को कानून व्यवस्था की वास्तविक स्थिति की जानकारी दी जा सके।

केजरीवाल ने कल भी यह आरोप लगाया था कि कानून व्यवस्था की बदतर स्थिति पर काबू पाने में मोदी और युद्ध असफल हो गए और कहा था कि शहर में जंगल राज स्थापित हो गया है .मसटर केजरीवाल के पत्र में राजधानी की कानून व्यवस्था का उल्लेख करते हुए कहा गया है कि बलात्कार और आपराधिक घटनाओं दिनोंदिन तेजी से बढ़ रहे हैं। चारों ओर जंगल राज है। राजधानी की जनता में इस वजह से अराजकता मची हुई है .मसटर केजरीवाल ने लिखा है कि “मैं कई कानूनी विशेषज्ञों से परामर्श किया है। उनका मानना है कि संविधान और कानून के अनुसार आप यह सूचना कर्मियों से मांगने का अधिकार नहीं है।

केंद्र सरकार किसी भी राज्य सरकार को पत्र लिखकर कोई सूचना मांग सकता है। वैसे ही जैसे कोई राज्य सरकार केंद्र सरकार को पत्र लिखकर जानकारी मांगी सकती है “.ख़त‌ में पूछा गया है कि दिल्ली सरकार में ऐसी कौन सी इंडियन प्रशासनिक सेवा पोस्ट है जिस पर अन्य अधिकारी काम कर रहे हैं। मेरी समझ से पूरी दिल्ली सरकार में दो चार से अधिक ऐसे अधिकारी नहीं होंगे। मुझे पूरी उम्मीद है कि केंद्र ने इस तरह की जानकारी शिवराज चौहान, चंद्रबाबू नायडू, वसुंधरा राजे और देवेंद्र फडणवीस से भी मांगी होंगी। वहाँ क्या स्थिति है। जब आप उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री थे तो अपने समय ऐसे कितने अधिकारी होते थे?।

मुझे बताया गया है कि उनमें से प्रत्येक राज्य में कई सौ ऐसे अधिकारी हैं। आप राज्यों सेटिंग से यह संख्या मुझे भेजेंगे तो आप बहुत ध्यान होगा “.मसटर केजरीवाल ने गृह मंत्री को अपने पत्र में यह भी लिखा है कि दिल्ली सरकार में कितने सलाहकार नियुक्त किए गए हैं। उनकी सूची बनवाता हूँ, मगर दिल्ली सरकार भी जानना चाहती है कि केंद्र सरकार ने अपने दो साल के कार्यकाल में कितने सलाहकार नियुक्त किए हैं, इस सूची भेजने की कृपा करें। सलाहकारों की सूची का आदान प्रदान से दोनों सरकारों को फायदा होगा।

TOPPOPULARRECENT