Monday , October 23 2017
Home / Khaas Khabar / राहुल गांधी की रैली में लगे मोदी जिंदाबाद के नारे

राहुल गांधी की रैली में लगे मोदी जिंदाबाद के नारे

राजस्थान के अलवर में कांग्रेस के नायबसदर राहुल गांधी की रैली में बुध के रोज़ एक अजीबोगरीब हालात पैदा हो गई। रैली में मौजूद कई लोग नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। पुलिस और कांग्रेस के कारकुनो के समझाने के बाद भी लोग खामोश

राजस्थान के अलवर में कांग्रेस के नायबसदर राहुल गांधी की रैली में बुध के रोज़ एक अजीबोगरीब हालात पैदा हो गई। रैली में मौजूद कई लोग नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। पुलिस और कांग्रेस के कारकुनो के समझाने के बाद भी लोग खामोश नहीं हुए और यह सिलसिला काफी देर तक चलता रहा।

बुध के दिन राहुल गांधी का राजस्थान में दो रैलियों से खिताब करने का प्रोग्राम था। वह चुरू में इजलास से खिताब करने के बाद अलवर जिले के खेड़ली की रैली में पहुंचे। इस दौरान बड़ी तादाद में नौजवान नरेंद्र मोदी और वसुंधरा राजे की ताइद में नारेबाजी करने लगे।

इजलास में एक तरफ नौजवानो को शांत कराने की कोशिश हुई तो दूसरी तरफ से मोदी जिंदाबाद की आवाज आने लगी। इन नौजवानो के आगे पुलिसवाले और कांग्रेसी पूरी तरह मजबूर नजर आए। मंच से मरकज़ी वज़ीर जितेंद्र सिंह ने कई बार अपील की, लेकिन कोई असर नहीं हुआ।

बताया जा रहा है कि ये नौजवान कठूमर से टिकट मांग रहे एक उम्मीदवार के हामी थे। दावेदार की ताइद में लाए बैनर और तख्तियों के पीछे नरेंद्र मोदी लाओ, मुल्क बचाओ जैसे नारे लिखे थे। इस दौरान कई बार वहां हवा में चप्पलें भी उछाली गईं। मंच से इन नौजवानो को वार्निंग भी दी गई कि ऐसा कर रहे लोगों के उम्मीदवारों को टिकट नहीं दिया जाएगा, लेकिन इसका कोई असर होता नहीं दिखा।

रैली कवर कर रहे टीवी चैनलों ने मोदी की ताइद में नारे लगा रहे लोगों से बातचीत भी की। इन लोगों का कहना था कि मोदी को मुल्क का वज़ीर ए आज़म बनना चाहिए।

खेड़ली से पहले राहुल गांधी ने चुरू में जलसा ए आम से खिताब किया था। वहां उन्होंने कहा कि मेरी मां ने कहा कि इस बार तुम अपनी कहानी कहना। यहां उनकी पूरी तकरीर इंदिरा गांधी और राजीव गांधी के कत्ल पर मरकूज़ रहा और उन्होंने कहा कि मेरी दादी को मारा, पापा को मारा और एक दिन मुझे भी मार डालेंगे। उनके इस बयान को लेकर सोशल साइट पर मुखालीफीन ने काफी खिंचाई की और लिखा कि उन्हें अपने बाप-दादी के कत्ल का सहारा लेना बंद करना चाहिए। कुछ लोगों ने यह भी कह कर निशाना साधा कि राहुल को दहशतगर्द और फिर्कावाराना दंगे का फर्ख मालूम पता नहीं है।

TOPPOPULARRECENT