Thursday , August 17 2017
Home / Delhi / Mumbai / राहुल गांधी को पद सौंपने की मांग के दौरान हिमाचल प्रदेश या उत्तराखंड में आयोजन की तैयारियां

राहुल गांधी को पद सौंपने की मांग के दौरान हिमाचल प्रदेश या उत्तराखंड में आयोजन की तैयारियां

नई दिल्ली: चार राज्यों में चुनाव हार का सामना करने के बाद कांग्रेस संभावना है कि अगले महीने चिंतन शिविर का आयोजन प्रक्रिया में ले आएगा। इस शेवर पार्टी शासित राज्य हिमाचल प्रदेश या फिर उत्तराखंड में मना सकता है। 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस का यह अपनी तरह का पहला शेवर होगा। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने 543 सदस्यीय लोकसभा में केवल 44 सीटों पर जीत हासिल की थी। एक वरिष्ठ कांग्रेस नेता ने पहचान जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि इस चिंतन शिविर विवरण को क़तईयत दी जा रही है और अधिक संभावना है कि किसी पहाड़ी राज्य में इसका आयोजन अमल में लाया जाए। कांग्रेस शासित राज्य कर्नाटक में भी आयोजन पर विचार हो सकता है। कांग्रेस का यह चिंतन शिविर ऐसे समय आयोजित होने जा रहा है जब पार्टी में राहुल गांधी को राष्ट्रपति पद दिए जाने की बातें हो रही हैं। पार्टी की चुनावी हार के बाद कई नेताओं ने कहा था कि कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक जल्दी ही आयोजित होगा जिसमें पार्टी की हार के कारणों की समीक्षा की जाएगी। 2003 में सोनिया गांधी ने शिमला में पहली बार चिंतन शिविर आयोजित किया था जसमेंकाँगरेस ने पहली बार यह संकेत दिया था कि वह केंद्र में सत्ता में भागीदारी के लिए तैयार है।

इस समय कांग्रेस ने कहा था कि सक्योलर शक्तियों में एकता होनी चाहिए। इसके नदा साल कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए गठबंधन ने केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी को सत्ता से बेदखल कर सत्ता हासिल करलैाथा। कांग्रेस का अनुपालन चिंतन शिविर जनवरी 2013 में जयपुर में आयोजित किया गया था जिसमें राहुल गांधी को पार्टी उपाध्यक्ष के पद पर पदोन्नत किया गया था और उन्हें 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी के चेहरे के रूप में पेश किया गया था। कांग्रेस का चिंतन शिविर ऐसे समय में आयोजित हो रहा है जब उसे एक तरफ तो भाजपा और संघ परिवार के हमलों का सामना तो दूसरी ओर सक्योलर दल इस वोट बैंक को निगलते जा रही हैं। पार्टी के एक नेता का एहसास है कि जिस तरीके से नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में भाजपा की सरकार पार्टी और उसके नेतृत्व को निशाना बना रही है उसके परिणाम में पार्टी के अस्तित्व को खतरा पैदा हो गया है। कांग्रेस को अब तुरंत कई चैलेंजस का सामना। अगले साल उत्तर प्रदेश और पंजाब जैसे राज्यों में चुनाव हैं। 2017 ही में गोवा ‘उत्तराखंड’ हिमाचल प्रदेश ‘मणिपुर और गुजरात में भी चुनाव होने वाले हैं। सोनिया गांधी ने 1998 में पार्टी की अध्यक्षता स्वीकार करने के तुरंत बाद मध्य प्रदेश में पंच मढ़ी के स्थान पर पार्टी का पहला चिंतन शिविर आयोजित किया था|

TOPPOPULARRECENT