Monday , October 23 2017
Home / Hyderabad News / रियासती बजट में अक़ल्लीयतों के साथ शदीद ना इंसाफ़ी

रियासती बजट में अक़ल्लीयतों के साथ शदीद ना इंसाफ़ी

मुहम्मद इफ़्तेख़ार उद्दीन अहमद ऐडवोकेट रियासती सदर आंधरा प्रदेश मुस्लिम रिज़र्वेशन फ्रंट ने रियासती हुकूमत की जानिब से असैंबली में आज पेश करदा साल 2012-13 के कुल रियासती बजट 1,45,854 करोड़ रूपयों में से अकल्लीय‌ती बहबूद के लिए सिर्फ 489 करोड़ र

मुहम्मद इफ़्तेख़ार उद्दीन अहमद ऐडवोकेट रियासती सदर आंधरा प्रदेश मुस्लिम रिज़र्वेशन फ्रंट ने रियासती हुकूमत की जानिब से असैंबली में आज पेश करदा साल 2012-13 के कुल रियासती बजट 1,45,854 करोड़ रूपयों में से अकल्लीय‌ती बहबूद के लिए सिर्फ 489 करोड़ रुपया मुख़तस(ते) किए जाने को रियासती अक़ल्लीयतों के साथ शदीद ना इंसाफ़ी क़रार दिया ।

अकल्लीय‌ती बजट रियासती बजट का सिर्फ 0.33% हिस्सा है जब कि दलितों के लिए 2,677 करोड़ रुपया मुख़तस(ते) किए गए जिन की आबादी का तनासुब 16% है ।

इसी तरह दर्जा फ़हरिस्त क़बाइल की फ़लाह बहबूद के लिए 1,540 करोड़ रुपया मुख़तस किए गए हैं जब कि रियासत की आबादी में दर्ज फ़हरिस्त क़बाइल की आबादी का तनासुब सिर्फ़ 6 फीसद है । रियासत की आबादी में 12 फीसद से ज़्यादा तनासुब रखने वाली अक़ल्लीयतों के लिए सिर्फ 498 करोड़ रुपय मुख़तस करना रियासत के अक़ल्लीयतों के साथ हुकूमत का मुतास्सीबाना(दूशमनाना) रवैया की अक्कासी(नूमाइंदगी) करता है ।

गूज‌शता तीन माह से रियासत की मुख़्तलिफ़ मुस्लिम तंज़ीमों और क़ाइदीन , उर्दू अख़बारात के मुदीरों की जानिब से रियासत के अक़ल्लीयतों की फ़लाह-ओ-बहबूद के लिए इस साल कम अज़ कम 3000 करोड़ रुपय मुख़तस (ते) करने हुकूमत से बारहा नुमाइंदगी के बावजूद अक़ल्लीयतों के लिए कम अज़ कम रियासती बजट का 1 फीसद भी मुख़तस करने में हुकूमत नाकाम रही ।

वज़ीर अकल्लीयती बहबूद जनाब अहमदू ल्लाह भी चीफ मिनिस्टर से इस सिलसिला में मूस्सिर नुमाइंदगी करने में नाकाम रहे । आंधरा प्रदेश मुस्लिम रिज़र्वेशन फ्रंट ने वज़ीर अकल्लीयती बहबूद से अक़ल्लीयतों के साथ की गई शदीद ना इंसाफ़ी के ख़िलाफ़ फ़ौरी वज़ारत से मुस्ताफ़ी होने का मुतालिबा किया ।

कांग्रेस हुकूमत के अक़ल्लीयतों के साथ सौतेला रवैया इख़तेयार करने के ख़िलाफ़ रियासत में होने वाले ज़िमनी चनाउ में कांग्रेस के ख़िलाफ़ मुस्लमानों को कमर बस्ता(तैयार) होने की अपील की ।

TOPPOPULARRECENT