Saturday , October 21 2017
Home / Khaas Khabar / रियासती हुकूमत शहर के सक़ाफ़्ती तारीख़ी विरसा को मिटाने के दरपे

रियासती हुकूमत शहर के सक़ाफ़्ती तारीख़ी विरसा को मिटाने के दरपे

हैदराबाद 25 जुलाई:रियासत तेलंगाना की तशकील के लिए जद्द-ओ-जहद का मक़सद इस शहर की तहज़ीब-ओ-तमद्दुन की हिफ़ाज़त के अलावा हैदराबाद के सक़ाफ़्ती विरसा-ओ-तारीख़ी इमारतों की अज़मत रफ़्ता की बहाली था लेकिन हुकूमत की तरफ से दवाख़ाना उस्मानिया की इमारत के इन्हिदाम के मंसूबे से एसा महसूस होता हैके हुकूमत इस शहर की तारीख़ को मिटाने के दरपे है।

ज़ाहिद अली ख़ां एडीटर रोज़नामा सियासत ने दवाख़ाना उस्मानिया की ख़ूबसूरत इमारत के इन्हिदाम की इत्तेलाआत पर सख़्त ब्रहमी का इज़हार करते हुए कहा कि हुकूमत पर इस बात की ज़िम्मेदारी आइद होती हैके वो शहर में मौजूद सक़ाफ़्ती विरसा के तहफ़्फ़ुज़ के ज़रीये शहरे हैदराबाद की तारीख़ी एहमीयत को आलमी सतह पर उजागर करे लेकिन हुकूमत के मंसूबे से एसा लगता हैके रियासती हुकूमत शहरे हैदराबाद में मौजूद तहज़ीबी-ओ-सक़ाफ़्ती विरसा की तबाही के बिलकुल्लिया तौर पर तैयार होचुकी है।
ज़ाहिद अली ख़ां ने हुकूमत के मंसूबे को सख़्त तन्क़ीद का निशाना बनाते हुए कहा कि हुकूमत अगर अपने तौर पर ही फ़ैसले करने लगती है तो एसी सूरत में वो जामिआ उस्मानिया, शिफ़ा-ए-ख़ाना यूनानी, तारीख़ी चारमीनार, चार कमान, उसमानसागर-ओ-हिमायतसागर, तारामति बारहदरी, क़िला गोलकेंडा, दारुलशफ़ा, फ़लकनुमा, चौमुहल्ला, पुरानी हवेली और किंगकोठी जैसी तारीख़ी इमारतों को भी तहस नहस करते हुए शहर की शिनाख़्त को ख़त्म करसकती है।

उन्होंने बताया कि तक़सीम रियासत का झगड़ा ही तहज़ीबी-ओ-सक़ाफ़्ती शिनाख़्त का झगड़ा रहा और आंध्रई हुकमरानों के दौर में सलतनत आसफ़िया-ओ-क़ुतुब शाही के दौर की यादगारों के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाने में कोताही बरती गई जिस के नतीजे में आज शहर की बेशतर इमारतें कुतुबख़ाना आसफ़िया, दवाख़ाना उस्मानिया, दवाख़ाना किंगकोठी, ई एन टी हॉस्पिटल के अलावा दुसरे मुक़ामात की हालत इंतेहाई खराब होचुकी है और नई रियासत की तशकील के बाद ये तवक़्क़ो की जा रही थी के हुकूमत तेलंगाना क़ुतुब शाही-ओ-आसिफ़ जाहि दौर के सक़ाफ़्ती दौर के असासाजात के तहफ़्फ़ुज़ को यक़ीनी बनाएगी लेकिन तवक़्क़ुआत के बरअक्स हुकूमत तेलंगाना की तरफ से नित नए मंसूबे मंज़रे आम पर आरहे हैं जोकि ना सिर्फ़ काबिले मज़म्मत है।
उन्होंने कहा के एसा महसूस होरहा हैके चीफ़ मिनिस्टर तारीख़ी इमारतों की एहमीयत से वाक़िफ़ नहीं हैं जिस की वजह से वो इस तरह के एलानात कररहे हैं।

TOPPOPULARRECENT