Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / रियासत को मुत्तहिद रखने का ऐलान जल्द किया जाए

रियासत को मुत्तहिद रखने का ऐलान जल्द किया जाए

हैदराबाद ०७ सितंबर (सियासत न्यूज़) सीमा। आंधरा की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस के अरकान ने आज वज़ीर-ए-आज़म से मुलाक़ात करते हुए रियासत को मुत्तहिद रखने का जल्द अज़ जल्द ऐलान करते हुए अवाम में पाई जाने वाली उलझन दूर करने का मुतालिब

हैदराबाद ०७ सितंबर (सियासत न्यूज़) सीमा। आंधरा की नुमाइंदगी करने वाले कांग्रेस के अरकान ने आज वज़ीर-ए-आज़म से मुलाक़ात करते हुए रियासत को मुत्तहिद रखने का जल्द अज़ जल्द ऐलान करते हुए अवाम में पाई जाने वाली उलझन दूर करने का मुतालिबा किया। कांग्रेस के रुकन पार्लीमैंट के ऐस राव की क़ियादत में सीमा।

आंधरा की नुमाइंदगीकरने वाले कांग्रेस के अरकान-ए-पार्लीमैंट ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह से मुलाक़ात की और रियासत की ताज़ा सयासी सूरत-ए-हाल से उन्हें वाक़िफ़ किराया। उन्हों ने कहा किरियासत के बेशतर अवाम रियासत की तक़सीम के ख़िलाफ़ हैं, यहां तक कि तलंगाना केअवाम भी अलहदा रियासत के हक़ में नहीं हैं, सिर्फ चंद मुट्ठी भर बेरोज़गार सयासी क़ाइदीन सयासी अग़राज़ के लिए अलहदा रियासत की तहरीक चला रहे हैं।

उन्हों ने कहा कि कांग्रेस हाईकमान और मर्कज़ी हुकूमत इस मसला पर मज़ीद टाल मटोल की पालिसी पर अमल ना करें, बल्कि रियास्ती अवाम का तजस्सुस दूर करें। उन्हों ने कहा कि रियासतमें कांग्रेस पार्टी बरसर-ए-इक्तदार ही, ताहम तलंगाना का फ़ैसला ना होने के सबब तरक़्क़ीयाती काम ठप होकर रह गए हैं।

कांग्रेस हुकूमत ने जिन फ़लाही-ओ-तरक़्क़ीयाती असकीमात का ऐलान किया ही, उस की मुल्क भर में मिसाल नहीं मिलती, लेकिन तलंगाना मसला की वजह से तात्तुल का शिकार हैं और रियासत की तरक़्क़ी की रफ़्तार थम गई है। उन्हों ने कहा कि बड़ी रियास्तों में ही तरक़्क़ी मुम्किन है। इन डी ए दौर-ए-हकूमत में तशकील दी गई छोटी रियास्तें कई मसाइल का शिकार हैं।

कांग्रेस हुकूमत ने मुत्तहदा आंधरा प्रदेश के लिए जिन असकीमात का ऐलान किया ही, उन पर अमल आवरी हो रही ही, जिन पर लाखों करोड़ के मसारिफ़ हैं। अगर दबाव‌ में रियासत की तक़सीम का फ़ैसला किया जाता है तो तमाम असकीमात और पराजकटस पर अमल आवरी और तामीरात दरमयान में रुक जाएंगी, जिस से रियासत को बहुत बड़ा नुक़्सान होगा।

दरीं असना वज़ीर-ए-आज़म ने सीमा। आंधरा के कांग्रेस अरकान-ए-पार्लीमैंट को मश्वरा दिया कि वो इस मसला पर मर्कज़ी वज़ीर-ए-सेहत मिस्टर ग़ुलाम नबी आज़ाद से मुलाक़ात करें। पार्टी सदर सोनीया गांधी के बैरूनी दौरा से वापसी के बाद वो उन से मुशावरत करते हुए इस मसला को जल्द अज़ जल्द हल करने की कोशिश करेंगी।

TOPPOPULARRECENT