Friday , October 20 2017
Home / Hyderabad News / रियासत में मज़ीद तीन नए मैडीकल कॉलेजस मुतवक़्क़े

रियासत में मज़ीद तीन नए मैडीकल कॉलेजस मुतवक़्क़े

रियासत आंध्रा प्रदेश को आने वाले तालीमी साल तीन नए मैडीकल कॉलेजस हासिल हो सकें गे अगर मैडीकल कौंसल आफ़ इंडिया ( एम सी आई ) डाक्टर एन टी आर यूनीवर्सिटी आफ़ हेलथ साईंस से अलहाक़ की मंज़ूरी की इजाज़त देती है ।

रियासत आंध्रा प्रदेश को आने वाले तालीमी साल तीन नए मैडीकल कॉलेजस हासिल हो सकें गे अगर मैडीकल कौंसल आफ़ इंडिया ( एम सी आई ) डाक्टर एन टी आर यूनीवर्सिटी आफ़ हेलथ साईंस से अलहाक़ की मंज़ूरी की इजाज़त देती है ।

रियासत में मौजूदा तौर पर सरकारी और ख़ानगी (पराइवेट) शोबा में 37 मेडीकल कॉलेजेस हैं और तालीमी साल बराए 2013 से क़ौमी इंटरैंस टेस्ट ( एन ई ई टी ) के ज़रीया दाख़िला की सूरत में दाख़िला तरीका कार तब्दील होगा ।

तीन इंतिज़ामीया अपोलो हॉस्पिटल्स , मिला रेड्डी ने हॉस्पिटल सोहूलत के लिए नारायना हर विद्यालय से मुआहिदा क्या हुवा है और विशाखापटनम एन आर आई हॉस्पिटल्स ने डाक्टर एन टी आर यूनीवर्सिटी आफ़ हेलथ साईंस से अल-हाक़ (Affiliation)(रजिस्ट्रेशन) की मंज़ूरी हासिल करने के बाद हर कॉलिज से 150 तलबा को हासिल करने दफ़ा (E) 10 के तेहत दरख़ास्त दी है ।

एक मर्तबा एम सी आईज़ के असिसमनट की तकमील होजाने और इस की मंज़ूरी हासिल होजाने के बाद इन टी आर यूनीवर्सिटी अहातों का मुआइना करेगी और अल-हाक़ (Affiliation)की क़तई मंज़ूरी दी जाएगी और इस के ज़रीया उन्हें इस बात का इख़तियार हासिल होगा कि एम बीबी इस नशिस्तों के लिएदाख़िला दिया जाय ।

हर साल यूनीवर्सिटी की जानिब से इजाज़त की तजदीद के लिए मुआइना किए जाने और पांचवें साल के आग़ाज़ के बाद जब कि इदारा का पहला बयाच कामयाब होने के लिए तय्यार रहता है इस को क़तई रजिस्ट्रेशन मुआइना को हासिल करना होता है और इस को एम सी आई में दाख़िल करना होता है जो कि नशिस्तों की सर अहित करदा तादाद को तस्लीम करेगा ।

आइन्दा तालीमी साल के लिए हुकूमत ने निज़ाम आबाद में कॉलिज के लिए एम सी आई से मंज़ूरी के लिए दरख़ास्त दाख़िल की है जब कि ज़िलानैलोर में एक कॉलिज को क़ायम करने की तजवीज़ है ।

जिस का चीफ मिनिस्टर ऐलान करचुके हैं । आंध्रा प्रदेश में डाक्टर एन टी आर यूनीवर्सिटी आफ़ हेलथ साईंस से अल-हाक़ (Affiliation) ना रखने वाले इदारों की जानिब से सिर्फ डी एन आई कोर्सेस को चलाया जा सकता है ।

अगरचे कि ये इदारे दीगर(दुसरे) हेलथ यूनीवर्सिटीज़ से अल-हाक़ (Affiliation)शूदा होते हैं रजिस्ट्रार एन टी आर यूनीवर्सिटी टी वीनू गोपाल रावने ये बात बताई ।

TOPPOPULARRECENT