Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / रिश्वत पर मुलाज़मीन को जेल, वुज़रा को रियायत क्यों?

रिश्वत पर मुलाज़मीन को जेल, वुज़रा को रियायत क्यों?

हैदराबाद ।१७अगस्त (सियासत न्यूज़) रियास्ती हुकूमत बदउनवानीयों में मुलव्वस वुज़राकी पुश्तपनाही के बजाय उन के ख़िलाफ़ कार्रवाई का आग़ाज़ करे ताकि अवाम कोहुक्मरानी पर एतिमाद बरक़रार रह सकी। तलगोदीशम अरकान असैंबली मिस्टर जी मदो

हैदराबाद ।१७अगस्त (सियासत न्यूज़) रियास्ती हुकूमत बदउनवानीयों में मुलव्वस वुज़राकी पुश्तपनाही के बजाय उन के ख़िलाफ़ कार्रवाई का आग़ाज़ करे ताकि अवाम कोहुक्मरानी पर एतिमाद बरक़रार रह सकी। तलगोदीशम अरकान असैंबली मिस्टर जी मदोकरशनम नायडू, मिस्टर ऐम नरसमहलो ने आज प्रैस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए ये मुतालिबा किया।

इन अरकान असम्बली ने हुकूमत से इस्तिफ़सार किया कि आख़िर हुकूमत क्यों इन वुज़रा के ख़िलाफ़ कार्रवाई से गुरेज़ कररही है जो बदउनवानीयों में मुलव्वस हैं। मिस्टर जी मदोकरशनम नायडू ने बताया कि धर्मना प्रसाद राव‌ को सी बी आर ने चार्ज शीट में मुल्ज़िम क़रार दिया है और मिस्टर के पारता सारथी अदालत में मुजरिम साबित होचुके हैं।

इस के बावजूद उन के ख़िलाफ़ कार्रवाई ना किया जाना अवाम की तौहीन के मुतरादिफ़ है। तेलगुदेशम अरकान असैंबली ने बताया कि 500 रुपय की रिश्वत लेते हुए गिरफ़्तार किए जाने वाले मुलाज़मीन को जेल की हुआ खानी पड़ती है और करोड़ों रुपय की बदउनवानीयों में मुलव्वस वुज़रा के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही ही।

मिस्टर जी मुद्दो करशनम नायडू ने सुप्रीम कोर्ट की जानिब से जिन वुज़रा को नोटिस जारी की गई है इन तमाम की फ़ौरी गिरफ़्तारी का मुतालिबा करते हुए कहा कि हुकूमत उन की क़ानूनी मदद के बजाय उन्हें गिरफ़्तार करवाते हुए क़ानून की मदद करी। तलगोदीशम अरकान असम्बली ने धर्मना प्रसाद राव‌ के अस्तीफ़ा को ड्रामा क़रार देते हुए कहा कि धर्मना प्रसाद राव‌ ज़मानत रोज़गार स्कीम के तहत अपने घर तक सड़क की तामीर करवाने के भी मुर्तक़िब हैं।

इन अरकान असम्ब‌ली ने सबीता इंदिरा रेड्डी, जे गीता रेड्डी, के लक्ष्मी ना रावना, पी लकशमया को काबीना से फ़ौरी बरतरफ़ करने का मुतालिबा करते हुए कहा कि हुकूमत इन वुज़रा की ताईद करते हुए अवामी एतिमाद से महरूम हो रही है। मिस्टर जी मदोकरशनम नायडू ने मिस्टर एन किरण कुमार रेड्डी को रियासत का सब से ज़्यादानाअहल चीफ़ मिनिस्टर क़रार देते हुए कहा कि रियासत को अब तक ऐसा चीफ़ मिनिस्टर नहीं मिला था जैसा कि अब ही। मिस्टर ऐम नरसमहलो ने बताया कि अगर वज़ीर इमारत-ओ-शवारा वाक़ई सी बी आई की चार्ज शीट में नाम शामिल होने पर अख़लाक़ी तौर परशर्मिंदगी महसूस करते हैं तो उन्हें चाहीए कि वो चीफ़ मिनिस्टर के बजाय गवर्नर आंधरा प्रदेश को अपना अस्तीफ़ा पेश करें

TOPPOPULARRECENT