Friday , October 20 2017
Home / India / रिश्वत सतानी के ख़िलाफ़ मुहिम जारी रहेगी: अडवानी

रिश्वत सतानी के ख़िलाफ़ मुहिम जारी रहेगी: अडवानी

नई दिल्ली, २१ नवंबर (यू एन आई)बी जे पी लीडर एल् के अडवानी की चालीस रोज़ा मुल्क गीर जन चेतना यात्रा (अवामी बेदारी मुहिम) जो बदउनवानी और काले धन के उमूर को जॊरॊ शॊर् से उजागर करने के लिए शुरू हुई थी। आज यहां राम लीला मैदान में एक जल्सा-ए-आम

नई दिल्ली, २१ नवंबर (यू एन आई)बी जे पी लीडर एल् के अडवानी की चालीस रोज़ा मुल्क गीर जन चेतना यात्रा (अवामी बेदारी मुहिम) जो बदउनवानी और काले धन के उमूर को जॊरॊ शॊर् से उजागर करने के लिए शुरू हुई थी। आज यहां राम लीला मैदान में एक जल्सा-ए-आम में इख़तताम को पहुंची।

मिस्टर अडवानी की सात हज़ार छः सौ किलोमीटर तवील ये यात्रा बिहार में मुमताज़ सोशलिस्ट रहनुमा जय प्रकाश निरावन के आबाई गांव सीताब दियारा से ग्यारह अक्तूबर को शुरू हुई थी। इस को बिहार के वज़ीर-ए-आला नतीश कुमार ने झंडी दिखा कर रवाना किया था।

अच्छी हुक्मरानी और शफ़्फ़ाफ़ सियासत के नारों के साथ शुरू हुई ये यात्रा 23 रियास्तों और 5 मर्कज़ के ज़ेर-ए-इंतिज़ाम इलाक़ों से गुज़रते हुए आज क़ौमी दार-उल-हकूमत पहुंची। मिस्टर अडवानी ने राम लीला मैदान में रैली से ख़िताब करते हुए कहा कि इन की जिन चेतना यात्रा को जो उन की छुट्टी यात्रा है पिछली पाँच यात्राओं के मुक़ाबले में ज़्यादा अवामी हिमायत हासिल हुई है।

उन्होंने कहा कि मैंने मुख़्तलिफ़ उमूर पर पाँच यात्राएं इस से पहले निकाली हैं। लेकिन मैं कह सकता हूँ कि मेरी छुट्टी यात्रा सब से ज़्यादा कामयाब रही है और ये सिर्फ़ अवाम की हिमायत से ही मुम्किन हुआ है। उन्हों ने मज़ीद कहाकि अपनी इस यात्रा में मुझे साबिक़ वज़ीर-ए-आज़म अटल बिहारी वाजपॆयी की रहनुमाई की कमी महसूस हुई लेकिन यात्रा शुरू करने से पहले मैंने उन का आशीर्वाद लिया था।

मिस्टर अडवानी ने कहा कि वाजपई जी उन की यात्रा में शरीक नहीं होसके क्योंकि उन की सेहत उस की इजाज़त नहीं देती और मेरी यात्रा की यही कमज़ोरी थी कि मुझे वाजपाई जी की रहनुमाई हासिल नहीं हो सकी जिन्होंने इस से पहले मेरे तमाम इस्फ़ार की हिमायत की थी। मिस्टर अडवानी ने मज़ीद कहाकि तमिलनाडू में यात्रा को मिली हिमायत से उन्हें बहुत हैरत हुई थी।

उन्होंने कहा कि बी जे पी तमिलनाडू में कोई मज़बूत पार्टी नहीं है लेकिन हमें जो अवामी हिमायत हासिल हुई है वो ग़ैरमामूली है। लोग भारी बारिश के बावजूद हमारी रैली में शरीक थी। मिस्टर अडवानी ने कहा कि बदउनवानी और महंगाई जैसी लानतों से मलिक को नजात दिलाने की इन की यात्रा भले ही ख़तम् हो गई हो।

लेकिन उन्हें जड़ से मिटाने के लिए उन की लड़ाई उस वक़्त तक जारी रहेगी। जब तक लोगों को इस से पूरी तरह नजात नहीं मिल जाती। उन्हों ने कहाकि मुल़्क की सियासत पर बदउनवानी की एक स्याह चादर तनी हुई है जो उसी वक़्त हटेगी जब लोगों में बेदारी पैदा होगी। उन्होंने कहा कि इसी अवामी बेदारी के बल पर इक़तिदार तबदील होगा और इस लानत का ख़ातमा हो।

हुकूमत के इरादों पर सवाल उठाते हुए उन्हों ने कहा कि ये सही नहीं है कि मुल्क में लोक पाल नहीं है इस लिए बदउनवानी बढ़ रही है। बदउनवानी बढ़ने का सबब क़ानून की अदमे मौजूदगी नहीं है बल्कि इस का सबब सयासी क़ुव्वत-ए-इरादी ना होना ही। उन्हों ने मज़ीद कहाकि हुकूमत में बदउनवानी को खतम् करने की सयासी क़ुव्वत-ए-इरादी नहीं है और इसी लिए वो ठोस और संजीदा क़दम उठाने से गुरेज़ कर रही है।

TOPPOPULARRECENT