Sunday , October 22 2017
Home / Hyderabad News / रेलवे मुलाज़िमीन के मसाइल की फ़ौरी यकसूई का मुतालिबा

रेलवे मुलाज़िमीन के मसाइल की फ़ौरी यकसूई का मुतालिबा

रिटायर्ड रेलवे एम्प्लॉयस‌ फैमेलीज़ आर्गेनाईजेशन ने मुतालिबा किया कि मर्कज़ी हुकूमत उनके बुनियादी मसाइल को हल करे। उन्होंने कहा कि बेवाओ और मुतल्लक़ा अफ़राद को तिब्बी सहूलियात फ़राहम की जानी चाहिए और उन के बच्चों को रोज़गार के मौ

रिटायर्ड रेलवे एम्प्लॉयस‌ फैमेलीज़ आर्गेनाईजेशन ने मुतालिबा किया कि मर्कज़ी हुकूमत उनके बुनियादी मसाइल को हल करे। उन्होंने कहा कि बेवाओ और मुतल्लक़ा अफ़राद को तिब्बी सहूलियात फ़राहम की जानी चाहिए और उन के बच्चों को रोज़गार के मौक़े फ़राहम किए जाने चाहिऐं।

एक प्रेस कान्फ्रेंस से ख़िताब करते हुए तंज़ीम के बानी सदर सी आर श्रीधर जॉइंट सैक्रेटरी ज्योति और एक्सीक्यूटिव अरकान मलेश-ओ-प्रभा ने कहा कि मर्कज़ी हुकूमत मौज़फ़ रेलवे मुलाज़िमीन के देरीना मसाइल से लापरवाही बरत रही है और इस जानिब कोई तवज्जु नहीं दी जा रही है ।

उन्होंने इल्ज़ाम आइद किया कि मर्कज़ी हुकूमत से उन मसाइल के ताल्लुक़ से बारहा नुमाइंदगी की गई है इस के बावजूद हुकूमत मसाइल को हल करने में नाकाम रही है। उन्होंने रेलवे स्कूल्स के बंद किए जाने को महिकमे का लापरवाही का नतीजा क़रार दिया है और कहा कि महिकमा सिर्फ़ ख़ानगी और कॉरपोरेट स्कूल्स को ही तरजीह दे रहा है।

उन्होंने ये जानना चाहा कि आया ग्रुप डी के मुलाज़मीन के लिए अपने बच्चों को ख़ानगी और कॉरपोरेट स्कूल्स में तालीम फ़राहम करना मुम्किन भी है ? । उन्होंने मर्कज़ी हुकूमत से मुतालिबा किया कि उनके बच्चों को पैंशन सहूलत फ़राहम की जाये तालीम के लिए मदद फ़राहम की जाये और उनके बच्चों को आउटसोर्सिंग मुलाज़िमतों में तरजीह दी जाये।

उन्होंने रियासत के 400 रेलवे असटेनशों पर सहूलयात को बेहतर बनाते हुए अवाम को राहत पहूँचाने का भी मुतालिबा किया और कहा कि हिन्दुस्तानी रेलवेज़ को ख़ानगी शोबे के हवाले करने का अमल रोका जाना चाहिए जो बतदरीज किया जा रहा है। उन्होंने रेलवेज़ में करप्शन के उरूज का भी इल्ज़ाम आइद किया और कहा कि उहदेदारान टेंडर्स की तलबी में सनअतकारों और बड़े ताजिरों-ओ-कारोबारियों के इलावा कॉन्ट्रॅटेर्स से साज़ बाज़ करते हुए ख़तीर रक़ूमात हासिल कर रहे हैं।

TOPPOPULARRECENT