Friday , October 20 2017
Home / Khaas Khabar / रोज़नामा सियासत का सह रोज़ा नाअत-ए-शरीफ़ मुक़ाबला

रोज़नामा सियासत का सह रोज़ा नाअत-ए-शरीफ़ मुक़ाबला

माह मुक़द्दस रबिउन्नूर की मुनासबत से इदारा सेयासत के ज़ेर-ए-एहतिमाम तलबा ओ तालिबात के लिए पहला नाअत-ए-रसूल मक़बूल (स०अ०व०) का 3 रोज़ा मुक़ाबला मुनाक़िद किया जा रहा है। ये मुक़ाबले 20 , 21 और 23 फ़बरोरी को महबूब हुसैन जिगर हाल अहाता रोज़

माह मुक़द्दस रबिउन्नूर की मुनासबत से इदारा सेयासत के ज़ेर-ए-एहतिमाम तलबा ओ तालिबात के लिए पहला नाअत-ए-रसूल मक़बूल (स०अ०व०) का 3 रोज़ा मुक़ाबला मुनाक़िद किया जा रहा है। ये मुक़ाबले 20 , 21 और 23 फ़बरोरी को महबूब हुसैन जिगर हाल अहाता रोज़नामा सियासत आबिडस पर होंगे।

पहले ग्रुप के लिए इंटर डिग्री और पी जी तलबा-ए-ओ- तालिबात, दूसरे ग्रुप दीनी मदारिस के तलबा , मौलवी, आलिम और फ़ाज़िल और तीसरे ग्रुप के दीनी मदारिस की तालिबात मौलवी आलिम-ओ-फ़ाज़िल हिस्सा ले सकते हैं। हर मुक़ाबले के लिए इनामात रखे गए हैं। पहला इनाम 15000 रुपय, दूसरा इनाम 10,000 रुपय और तीसरा इनाम 5000 रुपय है। दाख़िला की कोई फ़ीस नहीं। शिरकत फ़ार्म 16 फ़बरोरी जुमेरात से जारी किए जा रहे हैं।

ख़ाहिशमंद तलबा 9393876978 पर जनाब असलम से रब्त पैदा करसकते हैं। नाम रजिस्ट्रेशन करवाने की आख़िरी तारीख़ 19 फ़बरोरी 3 बजे दिन तक मुक़र्रर है। बोनाफ़ाईड के बगै़र शिरकत की इजाज़त नहीं होगी। जजेस का फ़ैसला क़तई होगा। हर नातख़वाँ को सिर्फ पाँच अशआर सुनाने की इजाज़त होगी।

TOPPOPULARRECENT