Thursday , October 19 2017
Home / Khaas Khabar / लाखों फ़र्ज़ंदाने तौहीद को सआदते हज

लाखों फ़र्ज़ंदाने तौहीद को सआदते हज

दुनिया भर से आने वाले लाखों अल्लाह के मेहमानों को आज हज की सआदत नसीब होगी। वादी ए मना में लाखों आज़मीन-ए-हज इबादात-ओ-अज़कार में मसरूफ़ हैं। आज़मीन-ए-हज कल रात ख़ेमों के शहर वादी ए मना पहुंचे थे। मनासिके हज के पहले मरहले में आज़मीन को व

दुनिया भर से आने वाले लाखों अल्लाह के मेहमानों को आज हज की सआदत नसीब होगी। वादी ए मना में लाखों आज़मीन-ए-हज इबादात-ओ-अज़कार में मसरूफ़ हैं। आज़मीन-ए-हज कल रात ख़ेमों के शहर वादी ए मना पहुंचे थे। मनासिके हज के पहले मरहले में आज़मीन को वादी मना में शब बसरी के बाद दूसरे दिन मैदान अरफ़ात में जमा होना होता है जहां नमाज़े ज़ुहर और अस्र की क़सर अदा की जाती है और इस के साथ ही लाखों फ़र्ज़ंदाने तौहीद हज की सआदत से मुशर्रफ़ होते हैं।

इस साल 136000 हिंदुस्तानी आज़मीन-ए-हज समेेत तक़रीबन 30 लाख आज़मीन फ़रीज़ा ए हज की अदायगी के लिए आए हुए हैं। वज़ीर-ए-सेहत-ओ-ख़ानदानी बहबूद ग़ुलाम नबी आज़ाद और सफ़ीर हिंद बराए सऊदी अरब हामिद अली राउ हिंदुस्तान के दो रुकनी हज ख़ैरसिगाली वफ़द की क़ियादत कर रहे हैं। मक्का मुअज़्ज़मा के अतराफ़ सैक्योरिटी को सख़्त कर दिया गया है जहां हैलीकाप्टर गश्त लगाते हुए सेक्यूरिटी इंतिज़ामात की निगरानी कर रहे हैं। सेक्यूरिटी ओहदेदारों को हिदायत दी जा रही है कि वो किस तरह इक़दाम करें। ट्रैफ़िक की वजह से मक्का मुअज़्ज़मा से वादी मना के तमाम रास्ते जाम हो गए। आज़मीन पैदल मोटर गाड़ियों और दीगर सवारियों के ज़रिये वादी ए मना पहुंचे।

ग़ुलाम नबी आज़ाद ने हिंदूस्तानी आज़मीन के लिए किए गए इंतिज़ामात पर इतमीनान का इज़हार किया और उन्हों ने इन तमाम इमारतों और रबात का दौरा किया जहां हिंदुस्तानी आज़मीन मुक़ीम हैं। उन्होंने जरोल में 50 बिस्तरों वाले दवाखाने और अज़ीज़ ये में 30 बिस्तरों के दवाखाने का भी दौरा किया यहां शरीक अलील आज़मीन की इयादत की। मक्का मुअज़्ज़मा में प्रेस कान्फ़्रैंस से ख़िताब करते हुए उन्होंने कहा कि आज़मीन से मुलाक़ात के दौरान तीन अहम शिकायतें सामने आई हैं, जिन्हें दूर करने के लिए हुकूमत कोशिश करेगी। हमारे आज़मीन उमूमी तौर पर इंतिज़ामात से ख़ुश हैं। ये मेरे लिए सआदत की बात है कि मैंने हमारे मुल्क के सब से मुअम्मर 107 साला आज़मीन-ए-हज इस्माईल साहिब और 102 साला हव्वा बीबी से मुलाक़ात की।

आज़मीन की सहूलत के लिए मक्का मुअज़्ज़मा में इंडियन हज मिशन ने अपने दफ़ातिर क़ायम किए हैं जो 24 घंटे काम करते रहते हैं। मेडिकल डिसपेंसरीज़ भी क़ायम किए गए हैं एम्बुलेन्स को भी तैयार रखा गया है। इस साल हज के लिए हिंदुस्तान से 546 तिब्बी अमला के अरकान को रवाना किया गया है इनमें 6 कोआर्डीनेटर 54 अस्सिटेंट हज ऑफीसर भी हैं। गुज़िश्ता साल 3.2 मिलियन मुसलमानों ने हज की सआदत हासिल की जिन में 190 मुल्कों से आने वाले 1.75 मिलियन बैरूनी आज़मीन भी शामिल थे। ग़ुलाम नबी आज़ाद ने कहा कि हिंदुस्तानी आज़मीन ने अपने क़ियाम के मुक़ाम पर नाकाफ़ी बैतुल-ख़लाओं की शिकायत की। इस वक़्त 12 आज़मीन के लिए सिर्फ़ एक बैतुल-ख़ला फ़राहम किया गया है। ग़ुलाम नबी आज़ाद ने मज़ीद कहा कि आज़मीन के लिए दो या ज़ाइद इमारतों में रहने वाले अफ़राद को मुशतर्का किचन फ़राहम किया जाएगा। ज़मज़म की रवानगी के तरीका-ए-कार पर भी नज़रसानी की जाएगी।

हाजियों को खजूर तोहफ़ा में दिए जाने के तरीक़ा पर नज़रसानी की जा रही है। कल हज का आज़म तरीन रुक्न अदा किया जाएगा । मैदान अरफ़ात में हज की सआदत हासिल करने के बाद हुज्जाज किराम मुज़दल्फ़ा जाऐंगे जहां शब बसरी और ज़िक्र-ओ-इबादत के बाद कंकरियां इकट्ठा कर के दूसरे दिन सुबह जुमरात में बड़े शैतान को कंकरियां मारेंगे। हुज्जाज किराम रुमी जमार के बाद क़ुर्बानी देंगे हलक़ करेंगे तवाफ़ ज़ियारत के लिए जाएंगे इसके बाद वादी मुंह पहुंच कर दो रोज़ तक जुमरात में छोटे और बड़े शैतान को कंकरियां मारेंगे। हुकूमत सऊदी अरब ने वाइरस मीरस से निमटने के लिए वसीअ तर एहतियाती इक़दामात किए हैं। अब तक इस वाइरस से किसी भी आज़मीन-ए-हज के मुतास्सिर होने की इत्तिला नहीं है।

TOPPOPULARRECENT