Tuesday , October 17 2017
Home / World / लीबिया, यमन, शाम, इराक़, नाईजिरया में ख़ूँरेज़ी पर इज़हारे तशवीश

लीबिया, यमन, शाम, इराक़, नाईजिरया में ख़ूँरेज़ी पर इज़हारे तशवीश

इस्टर के अमन पैग़ाम में पोप फ्रांसीस ने आज ईरान के साथ न्यूक्लीयर मुआहिदा के चौखट्टे से इत्तिफ़ाक़े राय की सताइश करते कहा कि इस से दुनिया महफ़ूज़ तर बन जाएगी। जब कि उन्हों ने लीबिया, यमन, शाम,, इराक़ नाईजिरया या और अफ़्रीक़ा के दीगर ममालिक

इस्टर के अमन पैग़ाम में पोप फ्रांसीस ने आज ईरान के साथ न्यूक्लीयर मुआहिदा के चौखट्टे से इत्तिफ़ाक़े राय की सताइश करते कहा कि इस से दुनिया महफ़ूज़ तर बन जाएगी। जब कि उन्हों ने लीबिया, यमन, शाम,, इराक़ नाईजिरया या और अफ़्रीक़ा के दीगर ममालिक में ख़ूँरेज़ी पर गहिरी फ़िक्रमंदी ज़ाहिर की।

मुहतात पोप फ्रांसीस ने अपने इस्टर के पैग़ाम में जो आलमी उमूर की सूरते हाल पर पोप का सालाना तबसरा हुआ करता है जो वो सेंट पीटर्स चौक में मर्कज़ी झरोके से किया करते हैं कहा कि उन्हें ईरान के न्यूक्लीयर प्रोग्राम पर मुआहिदा के चौखट्टे से आलमी ताक़तों के इत्तिफ़ाक़े राय पर बेइंतिहा ख़ुशी हुई है।

उन्हों ने सेंट पीटर्स चौक में लाखों अफ़राद से ज़बरदस्त बारिश के दौरे न साबिक़ ख़िताब किया था। उन्हों ने कहा कि इस्टर का दिन कितना हसीन है और कितना बदनुमा भी है जिस की वजह बारिश है।

उन्हों ने ईसाईयों के अहम तेहवार पर दुआइया इजतिमा से ख़िताब करते हुए उन फूलों के लिए इज़हारे तशक्कुर किया जिन से सेंट पीटर्स के चौराहे को सजाया गया था। ये फूल नीदरलैंड्स की जानिब से बतौर अतीया दिए गए थे और भूरे आसमान के पसमंज़र रंगारंग फूल इंतिहाई ख़ूबसूरत मालूम हो रहे थे।

हालिया न्यूक्लीयर मुआहिदा के बारे में पोप फ्रांसीस का ये अव्वलीन तबसरा था जिस का मक़सद इस बात को यक़ीनी बनाना है कि ईरान न्यूक्लीयर हथियार तैयार ना करने पाए।

गुड फ्राईडे के दिन पोप फ्रांसीस ने बैनुल अक़वामी बिरादरी की ईसाईयों के क़त्ल पर ख़ामूशी की मुज़म्मत की थी और इस्टर के दिन उन्हों ने दुआ की कि अपने नाम की बिना पर जिन अफ़राद को मज़ालिम का निशाना बनाया गया है इन सब के लिए वो नेक तमन्नाएं ज़ाहिर करते हैं।

TOPPOPULARRECENT