Thursday , October 19 2017
Home / Hyderabad News / लैंड गिरा बरस हमें अपने आशियानों से महरूम(असफल/जिसे ना मिला हो) करना चाहते हैं : मुतास्सिरीन

लैंड गिरा बरस हमें अपने आशियानों से महरूम(असफल/जिसे ना मिला हो) करना चाहते हैं : मुतास्सिरीन

हैदराबाद२३अक्टूबर:(सियासत न्यूज़): लैंड गिरा बरस के ख़िलाफ़ मुहिम चलाने का ऐलान करते हुए साबिक़ा रुकन पार्लीमैंट राज्य सभा सय्यद अज़ीज़ पा शाह ने मादना पेट धोबी घाट में जारी अराज़ी तनाज़ा के ख़िलाफ़ शदीद ब्रहमी का इज़हार किया ।त

हैदराबाद२३अक्टूबर:(सियासत न्यूज़): लैंड गिरा बरस के ख़िलाफ़ मुहिम चलाने का ऐलान करते हुए साबिक़ा रुकन पार्लीमैंट राज्य सभा सय्यद अज़ीज़ पा शाह ने मादना पेट धोबी घाट में जारी अराज़ी तनाज़ा के ख़िलाफ़ शदीद ब्रहमी का इज़हार किया ।तंज़ीम इंसाफ़ अज़ीम तर हैदराबाद की जानिब से मादना पेट चवार हा ता धोबी घाट मार्च में शिरकत के दिवान मुक़ामी अवाम से मुलाक़ात के दौरान अज़ीज़ पा शाह इन ख़्यालात का इज़हार किया ।

मुक़ामी अवाम बिलख़सूस मुअम्मर(दीर्धायु) ख़वातीन (महिलाए) ने अज़ीज़ पा शाह से मुलाक़ात करते हुए कहाकि वो चालीस सालों से यहां पर ज़िंदगी गुज़ार रहे हैं और मज़कूरा मुक़ाम से उन का जज़बाती लगाओ है और कहाकि वो पैसों के इव्ज़ अराज़ी ख़रीद कर यहां पर सर छिपाने का आसरा तामीर किया है मगर गुंडा अनासिर ख़ास तौर पर लैंड गिरा बरस पुलिस के साथ मिलकर हमें अपने आशयाना से महरूम करना चाहते हैं मुक़ामी अवाम ने मज़कूरा जायदाद के दो फ़रीक़ों के दरमयान जारी रसा कुशी की तफ़सीलात से भी अज़ीज़ पा शाह को वाक़िफ़ करवाते हुए कहाकि दो साल से उठ फ़रीक़ैन के दरमयान जारी मुक़द्दमात का ख़मयाज़ा हमें भुगतना पड़ रहा है ख़वातीन की कसीर तादाद ने अज़ीज़ पा शाह से उन के घरों के तहफ़्फ़ुज़ की गुज़िरश करते हुए ज़ार वक़तार रोने लगी।

बादअज़ां अज़ीज़ पा शाह ने मुताल्लिक़ा(संबंधित‌) ए सी पी से फ़ोन पर बात करते हुए धोबी घाट की अवाम को मज़ीद हिरासाँ वपरीशान करने से बाज़ रहने और लैंड गिरा बरस के बिशमोल मुक़ामी अवाम को हिरासाँ करने वालों पर लगाम किसने का मुतालिबा किया और मुक़ामी अवाम को सी पी आई और तंज़ीम इंसाफ़ की जानिब से हर ममन तआवुन फ़राहम करने यक़ीन दिलाया।

सदर इंसाफ़ अज़ीम तर हैदराबाद मुहम्मद यूसुफ़ ने भी मुक़ामी अवाम को हर अमुमकिन तआवुन का यक़ीन दिलाया। मुनीर पटेल तुय्यब ख़लीदी मुहम्मद अनवर मुहम्मद ज़हीर उद्दीन और सैंकड़ों इंसाफ़ के कारकुन हाथों में सुर्ख़(लाल रँग‌) पर्चम (झण्डे का कपडा)थामे हुए थी।

TOPPOPULARRECENT