Sunday , October 22 2017
Home / Hadis Shareef / वक़्त पर सदक़ा अदा करने की अहमियत

वक़्त पर सदक़ा अदा करने की अहमियत

हजरत अबू सईद खदरी रज़ी अल्लाहु तआला अनहु से रिवायत है के, रसूल-ए-पाक (स०) ने फ़रमाया, आदमी अपनी ज़िन्दगी में एक दिरहम सदका करे, उसके लिए उससे बेहतर है के मौत के वक़्त सौ दिरहम सदका करे। (अबू दाऊद)

TOPPOPULARRECENT