Tuesday , October 17 2017
Home / District News / वक़्फ़ अराज़ी पर बर्क़ी सब इस्टेशन की तामीर पर एतराज़

वक़्फ़ अराज़ी पर बर्क़ी सब इस्टेशन की तामीर पर एतराज़

बांसवाड़ा के मौज़ा दड़की में क़दीम ईदगाह की अराज़ी को एक ख़तीब की जानिब से बर्क़ी सब स्टेशन की तामीर केलिए फ़रोख्त अमल में आई थी । इस सिलसिला में मुक़ामी मुस्लमानों ने वक़्फ़ अराज़ी को फ़रोख्त करने पर सदर ज़िला वक़्फ़ कमेटी माजिद ख़ान से

बांसवाड़ा के मौज़ा दड़की में क़दीम ईदगाह की अराज़ी को एक ख़तीब की जानिब से बर्क़ी सब स्टेशन की तामीर केलिए फ़रोख्त अमल में आई थी । इस सिलसिला में मुक़ामी मुस्लमानों ने वक़्फ़ अराज़ी को फ़रोख्त करने पर सदर ज़िला वक़्फ़ कमेटी माजिद ख़ान से
रब्त क़ायम करते हुए तफ्सीलात से वाक़िफ़ करवाया ।

जिस पर सदर ज़िला वक़्फ़ कमेटी माजिद ख़ान ने मौज़ा दड़की का तीन मर्तबा दौरा करते हुए वक़्फ़ अराज़ी पर क़दीम ईदगाह के तहत सर्वे नंबर 108/6 में ईदगाह को 45×45 गज़ और वक़्फ़ गज़्ट में मौजूद है । इस अराज़ी को जुमला 17 गन्टे बतलाते हुए माजिद
ख़ान ने दड़की मौज़ा ईदगाह का बेर कौर मंडल तहसीलदार के हमराह अराज़ी का सर्वे किया गया और ईदगाह की 17 गंटे अराज़ी की निशानदेही करते हुए क़ब्ज़ा में ले लिया गया लेकिन अफ़सोस इस बात की है कि सर्वे नंबर 108/6 में पट्टादार ख़तीब जो इनाम की अराज़ी को पट्टा बतलाते हुए 108/4 मैं 26 गंटे 108/3 मैं 10 गंटे 108/1 मैं 5 गंटे अराज़ी को मुत्तसिल क़दीम ईदगाह फ़रोख्त
कर दिया ।

लेकिन ये अराज़ी नंबरात मुआइना के बाद मौक़ा पर मौजूद नहीं है । इस ताल्लुक़ से तहसीलदार बीर कौर सिरीधर महिकमा बर्क़ी के ओहदेदार ए डी वेंकटेश्वर लो भी लाइल्म देखे जा रहे हैं । इस ताल्लुक़ से बर्क़ी ओहदेदार से पूछे जाने पर उन्हों ने बताया कि अगर बसूरत तहसीलदार एस अराज़ी पर बर्क़ी सब स्टेशन तामीर करने के लिए इजाज़त दें तो ही वहां पर इसी मुक़ाम पर
बर्क़ी सब स्टेशन तामीर करवाया जाएगा ।

लेकिन मुक़ामी ख़तीबों-ओ-सदर जामा मस्जिद मुहम्मद वाजिद हुसैन ने साफ़ कहा कि जिस मुक़ाम ईदगाह से मुत्तसिल
अराज़ी पर सर्वे नंबर 108/6 में 108/4 , 108/3, 108/1 में रजिस्ट्री अमल में लाई गई और अराज़ी को फ़रोख्त किया गया है ।

ये नंबरात बिलकुल ग़ल्त हैं जबकि ये अराज़ी का नंबर 108/2 पोस्ट है लिहाज़ा ईदगाह के अक़ब में बर्क़ी सब स्टेशन तामीर होगा तो ईद के दौरान नमाज़ के मौक़ा पर अवाम को ख़तरा लाहक़ हो सकता है । इस मौक़ा पर ज़िला सदर वक़्फ़ कमेटी मिस्टर माजिद ख़ान ने
ईदगाह अराज़ी सर्वे-ओ-मुआइना के बाद उन्होंने अपनी शख़्सी दिलचस्पी की बिना पर ईदगाह जदीद की अराज़ी पर नाजायज़ क़ब्ज़ा को बरख़ास्त कराने और ईदगाह की मुकम्मल अराज़ी की निशानदेही की जाने पर मुक़ामी मुस्लमानों ने सदर ज़िला वक़्फ़ कमेटी से इज़हार-ए-तशक्कुर किया ।

जबकि ज़िला सदर माजिद ख़ान ने बरवक़्त ईदगाह जदीद के मिंबर की तामीर केलिए मुक़ामी मुस्लमानों और ख़तीबों काज़ियों को मश्वरा देकर मौक़ा पर ही 25 से 30 हज़ार रुपये चंदा लिखवाया और जल्द से जल्द मेम्बर की तामीरी अमल में लाई जाएगी । इस तरह से मौजूदा अफ़राद ने दिल खोल कर चंदा में अपना नाम लिखवाया ।

इस मौक़ा पर दड़की जामा मस्जिद सदर-ओ-ख़तीब मुहम्मद वाजिद हुसैन , मुहम्मद समी उद्दीन , मुहम्मद जावेद हुसैन , मुहम्मद तनवीर हुसैन , सैयद साजिद , मुहम्मद अतहर हुसैन , मुहम्मद तफ़ज़्ज़ुल हुसैन , इलियास ख़ान , मुहम्मद अकबर टी डी पी क़ाइद के इलावा वक़्फ़ बोर्ड इन्सपेक्टर मुहम्मद नियम मौजूद थे ।

TOPPOPULARRECENT