Wednesday , June 28 2017
Home / Uttar Pradesh / वक्फ़ की ज़मीन पर तलाकशुदा महिलाओं के लिए शेल्टर होम बनाया जाए: वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड

वक्फ़ की ज़मीन पर तलाकशुदा महिलाओं के लिए शेल्टर होम बनाया जाए: वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड

बाराबंकी। ऑल इंडिया मुस्लिम वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड ने उत्तर प्रदेश सरकार से तलाकशुदा महिलाओं के लिए वक्फ़ की ज़मीन पर शेल्टर होम खोलकर उन्हें कौशल विकास मिशन के तहत प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाने की मांग की है।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

न्यूज़ 18 के मुताबिक़ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्ता अंबर ने आज यहां यूएनआई उर्दू को बताया कि उन्होंने राज्य की महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को दिए गए पत्र में मांग की है कि वक्फ़ की जमीन तलाकशुदा महिलाओं के पुनर्वास के लिए इस्तेमाल की जानी चाहिए।

उन्होंने बाराबंकी के मिस परवा में आलिया नामक महिला के तलाक के बाद आत्महत्या की घटना का उदाहरण दिया, उन्होंने कहा कि अगर तलाकशुदा महिलाओं को वक्फ़ की ज़मीन पर आश्रय बनाकर उन्हें आत्मनिर्भर बनाने के लिए उन्हें राज्य और केंद्र सरकार की कौशल विकास मिशन योजना के तहत प्रशिक्षण दिया जाए तो उन्हें आत्महत्या जैसा कदम नहीं उठाना पड़ेगा।

इसके साथ ही सुश्री अंबर ने वक्फ़ की संपत्ति पर ऐसे शेल्टर होम बनाने की भी मांग की है, जिसमें तलाकशुदा, विधवा, बुजुर्ग, बेसहारा महिलायें, बलात्कार और घरेलू हिंसा से पीड़ित महिलाओं को आसरा और रोजगार दिया जा सके।

शाइस्ता ने कहा कि राज्य की नई सरकार से नई उम्मीदें हैं। प्रदेश में अधिकांश मुस्लिम महिलायें झिझक और धार्मिक समस्याओं के कारण किसी को अपने मुद्दे नहीं बता पाती हैं, इसलिए राज्य सरकार इस आवश्यकताओं को समझते हुए खुले दिमाग से सोचते हुए प्रत्येक जिले में स्थित महिला पुलिस सुनवाई सेल में ऑल इंडिया मुस्लिम वुमन पर्सनल लॉ बोर्ड का एक चैंबर अनिवार्य रूप में स्थापित किया जाए, ताकि तलाक, विवाह, बहुविवाह, मेहर, पोषण, विरासत, खुला और हलाला जैसे मुद्दों से संबंधित सुनवाई शरई तरीक़े से हो सके।

Top Stories

TOPPOPULARRECENT