Thursday , October 19 2017
Home / India / वज़ीर-ए‍-ख़ार्जाइ सुषमा स्वराज का दौरा-ए-वियतनाम, तिजारत , दिफ़ा और सयानत सर-ए-फ़हरिस्त मौज़ूआत

वज़ीर-ए‍-ख़ार्जाइ सुषमा स्वराज का दौरा-ए-वियतनाम, तिजारत , दिफ़ा और सयानत सर-ए-फ़हरिस्त मौज़ूआत

हिन्दुस्तान के वियतनाम के साथ दिफ़ाई एतबार से अहम ताल्लुक़ात में इज़ाफ़ा करने के मक़सद से वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सुषमा स्वराज आज से आला सतही क़ाइदीन के साथ कई मुलाक़ातें करेंगी जिन का मक़सद रब्त, तिजारत, दिफ़ा और सयान्ती तआवुन पर मर्कूज़ होगा।

हिन्दुस्तान के वियतनाम के साथ दिफ़ाई एतबार से अहम ताल्लुक़ात में इज़ाफ़ा करने के मक़सद से वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा सुषमा स्वराज आज से आला सतही क़ाइदीन के साथ कई मुलाक़ातें करेंगी जिन का मक़सद रब्त, तिजारत, दिफ़ा और सयान्ती तआवुन पर मर्कूज़ होगा। सुषमा स्वराज कल शाम यहां पहूँची थीं।

उन्होंने वज़ीर-ए‍-ख़ारिजा वियतनाम पहाम बिनहा मुनहा के साथ बातचीत की। वो सदर तरोइंग तान सांग और वज़ीर-ए-आज़म नगवीन तान दोंग के साथ भी बातचीत करेंगी। वज़ीर-ए‍‍-ख़ारिजा ने कहा कि वो वियतनामी क़ियादत के साथ कई मसाइल पर तबादला-ए-ख़्याल करेंगी।

उन्होंने कहा कि नई बी जे पी ज़ेर-ए-क़ियादत हुकूमत के तहत हिन्दुस्तान मशरिक़ के साथ तआवुन की पालिसी इख़तियार करेगा। इस सिलसिले में हिन्दुस्तान के लिए वियत‌नाम एक अहम मुल्क है। उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान ने विय‌तनाम को चावल की काशत के तरीक़े यहां पर क़ायम चावल के मर्कज़ के ज़रिए सुखाया हैं।

आज उन्होंने चावल की बरामदात में हिंदूस्तान को भी पीछे छोड़ दिया है। हिन्दुस्तान 1976 ही से वियत‌नाम को लीटर आफ़ क्रेडिट दे चुका है जिन की गुज़िश्ता साल तौसीअ भी की गई थी। दोनों ममालिक एक मुस्तहकम मआशी और बाहमी तिजारती ताल्लुक़ रखते हैं जिस की मालियत 8 अरब अमरीकी डॉलर्स होचुकी है। विय‌तनाम को हिन्दुस्तानी बरामदात 5 अरब 40 करोड़ अमरीकी डालर मालियती हैं।

TOPPOPULARRECENT