Tuesday , October 17 2017
Home / India / वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी मर्कज़ और रियासतों में अज़ीम तर हम आहंगी के ख़ाहां

वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी मर्कज़ और रियासतों में अज़ीम तर हम आहंगी के ख़ाहां

वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी ने आज मर्कज़ और रियासतों के दरमियान अज़ीम तर हम आहंगी की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए मुल्क के तमाम चीफ़ मिनिस्टर्स से ख़ाहिश की कि वो सियासी इख़तिलाफ़ात को तामर-ए-क़ौम के रास्ते में रुकावट बनने की इजाज़त ना दें। वो यहां

वज़ीर-ए-आज़म नरेंद्र मोदी ने आज मर्कज़ और रियासतों के दरमियान अज़ीम तर हम आहंगी की ज़रूरत पर ज़ोर देते हुए मुल्क के तमाम चीफ़ मिनिस्टर्स से ख़ाहिश की कि वो सियासी इख़तिलाफ़ात को तामर-ए-क़ौम के रास्ते में रुकावट बनने की इजाज़त ना दें। वो यहां फ़ूड पार्क की इफ़्तिताही तक़रीब से उन्होंने कहा कि सियासी पार्टीयों का लिहाज़ किए बगै़र जिससे उनका ताल्लुक़ है वज़ीर-ए-आज़म और चीफ़ मिनिस़्टरों को चाहिए कि बाहमी इश्तिराक-ओ-तआवुन करें ताकि मुल्क तरक़्क़ी करसके।

सियासी इख़तिलाफ़ात को तामर-ए-क़ौम के रास्ते की रुकावट नहीं बनना चाहिए । क़ब्लअज़ीं रियासतों और मर्कज़ के दरमियान या तो मुसाबक़त हुआ करती थी या सियासी वजूहात की बिना पर नफ़रत हुआ करती थी बाज़ रियासतों को मर्कज़ के साथ दुश्मनी का एहसास भी होता था।

उन्होंने कहा कि इस तरह मुल्क नहीं चलाया जा सकता। रियासतों और मर्कज़ को एक टीम की तरह काम करते हुए मुल्क को तरक़्क़ी देनी होगी। महाराष्ट्र के पृथ्वी राज चौहान और हरियाणा के भूपेंद्र सिंह हूड्डा ने फ़ैसला किया था कि सरकारी जलसों में शिरकत ना की जाये जब कि मुबय्यना तौर पर बी जे पी कारकुनों ने वज़ीर-ए-आज़म के जलसों में उनकी मौजूदगी में इन दोनों चीफ़ मिनिस्टर्स का मज़हका उड़ाया था।

कांग्रेस ने अपने चीफ़ मिनिस्टर्स को और अप्पोज़ीशन पार्टीयों के चीफ़ मिनिस्टर्स को हिदायत दी थी कि वो मोदी की तक़रीबात का उस वक़्त तक बाईकॉट करें जब तक कि बी जे पी कारकुनों के रवैय्ये पर मुनासिब माज़रत ख़्वाही हासिल ना हो। ताहम आज की तक़रीब में चीफ़ मिनिस्टर कर्नाटक सदर उमय्या मौजूद थे।

मोदी ने कहा कि उन्हें एतिमाद है कि तमाम चीफ़ मिनिस्टर्स अपनी सियासी वाबस्तगी का लिहाज़ किए बगै़र मर्कज़ को रियासतों पर एतिमाद बरक़रार रखने की सिम्त कोशिश करेंगे।

TOPPOPULARRECENT