Saturday , October 21 2017
Home / Delhi News / वज़ीर-ए-दाख़िला शिंदे का मुस्लिम नौजवानों से मुताल्लिक़ बयान से मुकरजाना अफ़सोसनाक : शाही इमाम

वज़ीर-ए-दाख़िला शिंदे का मुस्लिम नौजवानों से मुताल्लिक़ बयान से मुकरजाना अफ़सोसनाक : शाही इमाम

शाही इमाम मस्जिद फ़तहपुरी दिल्ली मुफ़्ती मुहम्मद मुकर्रम अहमद ने कहा कि ईदुल-अज़हा हिंदुस्तान में एक क़ौमी तेहवार के तौर पर मनाई गई और मुस्लमानों की ख़ुशी में ग़ैरमुस्लिम भाईयों ने भी हिस्सा लिया।

शाही इमाम मस्जिद फ़तहपुरी दिल्ली मुफ़्ती मुहम्मद मुकर्रम अहमद ने कहा कि ईदुल-अज़हा हिंदुस्तान में एक क़ौमी तेहवार के तौर पर मनाई गई और मुस्लमानों की ख़ुशी में ग़ैरमुस्लिम भाईयों ने भी हिस्सा लिया।

इसी तरह दीवाली भी मनाई जाएगी। उन्होंने वज़ीर-ए-दाख़िला शिंदे के बात पलटने पर अफ़सोस ज़ाहिर किया। पिछले माह वज़ीर-ए-दाख़िला ने रियासतों को एक मकतूब भेजा था जिस में मुसलमान नौजवानों के साथ इंसाफ़ की बात कही गई थी लेकिन फ़िर्क़ा परस्तों की तन्क़ीद पर उन्होंने बात पलटते हुए बयान दिया कि मैंने सिर्फ़ मुसलमानों के लिए नहीं बल्कि उमूमी तौर पर मकतूब लिखा था।

शाही इमाम साहिब ने कहा कि मालूम होता है कि मर्कज़ी हुकूमत मुसलमानों को इंसाफ़ देने के मूड में नहीं है। उन्होंने वज़ीर-ए-आज़म और श्रीमती सोनिया गांधी से मुसलमानों को इंसाफ़ देने का मुतालिबा किया और फ़िर्कावाराना फ़सादात‌ के इंसिदाद केलिए जल्द बिल पास कराने का मुतालिबा भी किया। शाही इमाम साहब ने जुनूबी हिंद तमिलनाडू में चेन्नई के 600 किलो मीटर दूर तूतीकोरिन साहिल पर ज़ब्त शूदा अमरीका के बहरी जहाज़ में भारी तादाद हथियारों की मौजूदगी और बगै़र इजाज़त के हिंदुस्तानी बहरी सरहद में दाख़िल होने की शदीद मुज़म्मत की और क़ानूनी सख़्त कार्रवाई का मुतालिबा किया।

उन्होंने कहा कि मुसलमानों पर दहशतगर्दी का इल्ज़ाम ग़लत है। शाही इमाम साहब ने ईरान और बड़ी ताक़तों के दर्मयान मुज़ाकरात की पेशरफ़त का खैरमक़दम किया।

TOPPOPULARRECENT