Wednesday , October 18 2017
Home / Khaas Khabar / वडोदरा में दंगों के सिलसिले में 200 से ज़्यादा गिरफ्तार

वडोदरा में दंगों के सिलसिले में 200 से ज़्यादा गिरफ्तार

गुजरात के वडोदरा शहर में पिछले कुछ दिनों में हुए फिर्कावाराना दंगों के सिलसिले में 200 से ज़्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है हालांकि अभी किसी नये हादिसे की इत्तेला नहीं है|पुलिस ने इसकी इत्तेला दी|

गुजरात के वडोदरा शहर में पिछले कुछ दिनों में हुए फिर्कावाराना दंगों के सिलसिले में 200 से ज़्यादा लोगों को गिरफ्तार किया गया है हालांकि अभी किसी नये हादिसे की इत्तेला नहीं है|पुलिस ने इसकी इत्तेला दी|

हालांकि अहमदाबाद से 116 किलोमीटर दूर इस शहर में हालात कशीदा बनी हुई है और यहां काफी तादाद में पुलिस अहलकारों की तैनाती की गई है|

सोशल नेटवकिंग साइट पर एक मज़हब के बारे में कुछ काबिल ऐतराज़ बातें पोस्ट किए जाने पर शहर के याकूतपुरा, पंजरापोल, फतेहपुरा और कुम्भरवदा में जुमेरात के रोज़ तशद्दुद भड़क गई थी और पथराव, लूटपाट, तोड़फोड़ और चाकूबाजी की वारदात पुराने शहर में दर्ज की गई थी|

वडोदरा शहर के ज्वाइंट पुलिस कमिशनर डी जे पटेल ने कहा, ‘‘ हमने शहर से 200 से ज़्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है| कुछ गिरफ्तारियां एहतियात के तौर पर की गई हैं|’’ तनाव उस वक्त पैदा हो गया जब जुमेरात को वकीलों और अक्लियतों के मेम्बरों के बीच हाथापायी हो गई|

पटेल ने कहा, ‘‘ शहर में आज दंगे की किसी वाकिया की इत्तेला नहीं है और पुलिस कड़ी निगाह रखे हुए हैं|’’ उन्होंने कहा कि अफवाहों को फैलने से रोकने के लिए इंटरनेट खिदमात को मुअत्तल कर दिया गया है|

पिछले चार दिनों में शहर में चाकूबाजी की तीन वाकियात दर्ज की गई|इसके अलावा पत्थर फेंकने, लूट और तोड़फोड की इत्तेला भी मिली है|

पुलिस ने बताया कि इंतेज़ामिया ने कर्फ्यू नहीं लगाया क्योंकि ये छिटपुट वाकिया थें पुलिस ने बताया कि आज फसाद की कोई वाकिया दर्ज नहीं की गई है आफीसरों ने स्टेट रिजर्व पुलिस की 13 कंपनियां और बीएसएफ, सीआरपीएफ और रैपिड एक्शन फोर्स की एक एक कंपनी तैनात की है| वड़ोदरा में पहले मुकर्रर रह चुके छह सीनीयर आईपीएस आफीसर भी यहां बुलाए गए हैं|

पुलिस जनरल डायरेक्टर पीसी ठाकुर, एडीशनल होम सेक्रेटरी एसके नंदा के अलावा वज़ीर नितिन पटेल और रजनी पटेल ने शहर का दौरा किया|

पुलिस ज़राये ने बताया कि पुलिस इंस्पेक्टर रैंक के कुछ आफीसरों का शहर के अंदर तबादला किया गया है ताकि दंगा से मुतास्सिर इलाकों में हालात से निपटने के लिए ज़्यादा काबिल आफीसर मौजूद रहें|

TOPPOPULARRECENT