Monday , August 21 2017
Home / India / वरुण गांधी ने सांसदों के स्वयं के वेतन में वृद्धि करने के अधिकार पर सवाल उठाया

वरुण गांधी ने सांसदों के स्वयं के वेतन में वृद्धि करने के अधिकार पर सवाल उठाया

भाजपा के सदस्य वरुण गांधी ने मंगलवार को सांसदों द्वारा स्वयं अपने वेतन की वृद्धि करने की शक्ति पर सवाल उठाया और इस बात पर आपत्ति जताई की आधार जैसे मत्वपूर्ण बिल बिना किसी चर्चा के पारित किये जा रहे हैं या उन्हें संसदीय पैनल में संदर्भित किये जा रहे हैं।

लोकसभा में शून्य घंटे के दौरान इस मुद्दे को उठाते हुए उन्होंने कहा की सांसदों की वेतन वृद्धि का फैसला लेने के लिए एक बाहरी संस्था होनी चाहिए और सवाल किया की क्या सांसदों ने पिछले दशक में इतना काम किया है जिसके लिए वे स्वयं को 400% वेतन वृद्धि दें।

“जब वेतन के मामले को बार-बार उठाया जाता है, तो मुझे सदन की नैतिकता के बारे में चिंता होती है। पिछले एक साल में करीब 18,000 किसानों ने आत्महत्या की है। हमारा ध्यान कहाँ है? “उन्होंने पूछा।

उन्होंने कहा कि यह “शर्मनाक” है कि लोकसभा में बैठकों की संख्या 1952 में 123 दिन से 2016 में 75 हो गई है।

गाँधी का आधार बिल पर यह बयान, की सरकार ने आधार बिल को चर्चा के लिए संसदीय समिति के पास नहीं भेजा था उसे सरकार द्वारा अच्छे रूप से लेने की सम्भावना कम है क्योंकि विपक्षी दलों ने भी सरकार पर यही आरोप लगाया था।

सांसदों के बार-बार वेतन बढ़ाने की मांग पर प्रहार करते हुए उन्होंने कहा की, जवाहरलाल नेहरू मंत्रिमंडल ने लोगों की पीड़ाओं को देखते हुए अपनी पहली बैठक में छह महीने तक वेतन न लेने का एक सामूहिक निर्णय लिया था। उन्होंने अतीत से और कई अन्य उदाहरणों का हवाला भी दिया।

TOPPOPULARRECENT