Monday , April 24 2017
Home / Khaas Khabar / शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने शहीद इरशाद-सलमान के परिवार को दी 50 हज़ार की आर्थिक मदद

शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने शहीद इरशाद-सलमान के परिवार को दी 50 हज़ार की आर्थिक मदद

उत्तर प्रदेश: एलओसी के पलांवाला सेक्टर में 11 जनवरी को हुए आतंकी हमले में शहीद हुए   प्रतापगढ़ के दो नौजवान सलमान और इरशाद के परिवार से मिलने पहुंचे यश भारती सम्मानित युवा शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने तब दोनों परिवारों को 50-50 हजार की आर्थिक मदद देने का वादा किया था जिसे उन्होंने पूरा कर दिया है। शहीद हुए बेटों के बाद परिवार को आर्थिक मदद के नाम पर चंद रुपए ही दिए गए।

बोलता हिंदुस्तान की खबर के मुताबिक, आर्थिक तंगी से बेहाल और असहाय परिवार की उम्मीद खो चुकी है। परिवार की परेशानियों को देखते हुए शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने इन परिवारों के लिए आर्थिक मदद करने का ऐलान भी किया और अपने चाहने वालों से अपील भी की थी। जिसके कुछ दिन बाद ही अपने वादे को निभाते हुए इमरान ने उनके परिवार की मदद की।

पढ़िए लोगों से मदद की अपील में क्या लिखा था इमरान प्रतापगढ़ी ने

मेरे सामने अपने कॉंधों पर अपने जवान बेटों के जनाज़ों को कॉंधा दे चुके दो बाप बैठे हैं, उनकी ऑंखों से बहते हुए ऑंसू रूह तक को भिगा दे रहे हैं, मेरा ख़ुद का दामन भीगा है, वो अखनूर (कश्मीर) में शहीद हुए अपने जवान बेटों शहीद इरशाद और शहीद सलमान की बातें कर रहे हैं और बस रो पड़ रहे हैं !

वो ये भी बताते हुए रो दे रहे हैं कि हमारे शहीद हुए जवान बच्चों की शहादत की कोई अहमियत नहीं। ज़िला प्रशासन से लेकर सियासी गलियारों तक, किसी भी शख़्स को ये एहसास तक नहीं कि जनाज़े में शामिल होकर एैसे परिवारों के ज़ख़्म पर मरहम लगा दें !

सरकारी मदद के नाम पर सेना ने अंतिम संस्कार के लिये कुछ हज़ार रूपये भेजे थे बस ! शहीद सलमान और शहीद इरशाद के परिवार वालो के बहते हुए ऑंसुओं को अपने दामन में समेटने की एक छोटी सी कोशिश !

वादे के मुताबिक दोनों परिवारों को 50-50 हज़ार की आर्थिक मदद, शुक्रिया जहॉंगीर और ज़ाहिद भाई का, इन दोनों साथियों ने भी दोनों परिवारों की आर्थिक मदद का वादा पूरा किया !

दिन भर की थकन समेटे घर लौटा हूँ, तमाम दुनिया भर का सुक़ून सिमट आया है आज रूह के इर्द गिर्द ! ख़ुदा से बस इतनी दुआ कि मुझे इस लायक़ बनाये रखना कि मज़लूमों के हक़ की लडाई लड सकूँ और ज़रूरतमंदों की मदद कर सकूँ ! शुक्रिया ….जलील भाई, मैसाद भाई, पप्पू भाई (ज़िला पंचायत सदस्य)

Top Stories

TOPPOPULARRECENT