Saturday , August 19 2017
Home / India / वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने एसपी त्यागी की गिरफ्तारी को बताया ‘दुर्भाग्यपूर्ण’, हमारी प्रतिष्ठा धूमिल हुई

वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने एसपी त्यागी की गिरफ्तारी को बताया ‘दुर्भाग्यपूर्ण’, हमारी प्रतिष्ठा धूमिल हुई

नई दिल्ली : शनिवार को पूर्व वायुसेना प्रमुख एस पी त्यागी को दिल्ली की एक अदालत ने चार दिन के लिए सीबीआई हिरासत में भेज दिया है | अगस्तावेस्टलैंड से 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की खरीद में 450 करोड़ रुपये की रिश्वत के कथित लेन-देन के आरोप में ये गिरफ़्तारी हुई है |

पूर्व वायुसेना प्रमुख एसपी त्यागी की गिरफ्तारी को ‘दुर्भाग्यपूर्ण’ बताते हुए वायुसेना प्रमुख अरूप राहा ने कहा कि इससे वायुसेना की प्रतिष्ठा को ‘नुकसान’ पहुंचा है| राहा ने कहा, मुझे इस बात का यक़ीन है कि प्रत्येक भारतीय नागरिक कानून के शासन में भरोसा करता है और उचित प्रक्रिया जारी है| जो भी अंतिम फैसला होगा, हम उसे मानेंगे| उन्होंने इस मुद्दे पर आगे कुछ कहने से यह कहते हुए इनकार किया कि मामला अदालत में है|

करीब तीन साल पहले सामने आए इस मामले में सीबीआई की ओर से की गई ये पहली गिरफ्तारियां है | सीबीआई ने 12 वीवीआईपी हेलीकॉप्टरों की खरीद में 450 करोड़ रुपये की रिश्वत के कथित लेन-देन के आरोप में पूर्व वायुसेना प्रमुख एस पी त्यागी , उनके रिश्ते के भाई और अधिवक्ता गौतम खेतान को गिरफ़्तार किया है |

गौरतलब है कि फरवरी 2010 में तत्कालीन यूपीए सरकार ने इटली की कंपनी फिनमेकेनिका की सहायक कंपनी अगस्ता वेस्टलैंड से भारत को 36 अरब रुपए के सौदे के तहत 12 हेलिकॉप्टर ख़रीदने थे | वीवीआईपी मसलन पीएम और राष्ट्रपति के लिए इन हेलिकॉप्टरों को इस्‍तेमाल किया जाना था|  नए हेलिकॉप्टर इसलिए खरीदे जा रहे थे क्योंकि पुराने एमआई 8 हेलिकॉप्टर बहुत ज्यादा ऊँचाई पर उड़ान भरने में सक्षम नहीं थे| त्यागी पर आरोप है कि उन्होंने इन हेलिकॉप्टर की फ्लाइंग सीलिंग 6000 मीटर से घटाकर 4500 मीटर करने में मदद की थी| उधर, त्यागी का इस मामले में कहना था कि फ्लाइंग सीलिंग की ऊंचाई घटाने का निर्णय एक सामूहिक निर्णय था जो कई विभाग के अधिकारियों से विचार-विमर्श करके लिया गया था|

हेलिकॉप्टर की ख़रीद-फ़रोख़्त में 2013 में कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता समेत कई हाई प्रोफ़ाइल नेताओं के नाम सामने आए थे|  इतालवी कोर्ट में रखे गए 15 मार्च 2008 के एक नोट में कांग्रेसी नेताओं की संलिप्तता की ओर इशारा किया गया था| संसद में  36 अरब की इस डील में घोटाले के बाद जमकर हंगामा हुआ था| जनवरी 2014 में तत्कालीन  यूपीए सरकार ने इसे तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया था| 12 में से 3 हेलिकॉप्टर तब तक भारत को दिए जा चुके थे|  इस कार्रवाई के बाद रक्षा मंत्रालय ने कहा था कि अगस्ता वेस्टलैंड विवाद रद्द करने की वजह ‘विश्वसनीयता करार का उल्लंघन’ है|

 

TOPPOPULARRECENT