Thursday , September 21 2017
Home / Delhi News / वायु प्रदूषण से भारत में हर साल छह लाख से ज्यादा लोगों के मरने की उम्मीद- रिपोर्ट

वायु प्रदूषण से भारत में हर साल छह लाख से ज्यादा लोगों के मरने की उम्मीद- रिपोर्ट

नई दिल्ली। ग्रीनपीस की एक रिपोर्ट में शुक्रवार को कहा गया कि भारत में हर साल वायु प्रदूषण के कारण कम से कम छह लाख लोगों के मारे जाने का अनुमान है। इसमें जीवाश्म ईंधन का इस्तेमाल एक बड़ी भूमिका निभाता है। रपट के अनुसार, वायु प्रदूषण से हर साल भारत और चीन में 1.6 अरब से ज्यादा लोग मरते हैं। इसकी वजह जीवाश्म ईंधन, खास तौर से कोयले का बढ़ता इस्तेमाल है।

‘इंडिया टीवी खबर डॉट कॉम’ के अनुसार, रिपोर्ट में कहा गया है कि वैश्विक 65 लाख मौतों में से 34 लाख मौतें भारत और चीन में साल 2015 में वायु प्रदूषण से हुईं। ग्रीनपीस के कोयला एवं वायु प्रदूषण के जानकार लौरी माईलिविट्रा ने कहा, “लगातार जीवाश्म ईंधन के इस्तेमाल के कारण होने वाले वायु प्रदूषण से भारत और चीन समृद्ध अर्थव्यवस्था के फायदे की वजह से इनकार करते हैं।”

माईलिविट्रा ने कहा कि देश जैसे धनी होते जाते हैं, वे सामान्यतया कम प्रदूषित उद्योगों को विकसित करते है। लेकिन भारत और चीन के मामले में यह प्रवृत्ति काफी विपरीत है। माईलिविट्रा ने कहा, “आर्थिक वृद्धि के बावजूद दोनों देशों में हवा की गुणवत्ता खास तौर से खराब है।” भारत में 60 प्रतिशत से ज्यादा बिजली की मांग कोयला आधारित ताप संयंत्रों के इस्तेमाल से पूरी की जाती है।

TOPPOPULARRECENT