Wednesday , September 20 2017
Home / Khaas Khabar / वित्त मंत्रालय की घोषणा : मंदिरों में चढ़ाए गए पैसों पर इनकम टैक्स जानकारी नहीं मांगेगा

वित्त मंत्रालय की घोषणा : मंदिरों में चढ़ाए गए पैसों पर इनकम टैक्स जानकारी नहीं मांगेगा

नई दिल्ली : मंदिरों में श्रद्धालुओं द्वारा दान के तौर पर चढ़ाए गए पैसों पर सरकार ब्योरा नहीं मांगेगी। सभी मंदिर ये रकम आसानी से बैंक से बदलवा सकेंगे। इनकम टैक्स उनसे जानकारी नहीं मांगेगा। वित्त मंत्रालय ने इस बाबत घोषण की है। राजस्व सचिव हंसमुख अधिया ने कहा कि अगर पैसा श्रद्धालुओं द्वारा दान पेटी में डाला गया है तो उस पैसे पर बैंक कोई जानकारी नहीं लेगा। मंदिरों को केवल फॉर्म में सिर्फ इतनी घोषणा करनी होगी कि ये रकम दान के तौर पर मंदिर के पास जमा हुई है। राजस्व सचिव का कहना है कि चूंकि मंदिर प्रशासन को मालूम नहीं होता है कि दान पेटी में किस व्यक्ति ने कितना पैसा डाला है इसलिए उन्हें स्रोत बताने की प्रक्रिया से छूट दी गई है। मंदिरों के लिए रकम बदलवाने के लिए कोई सीमा नहीं है। पांच हजार रुपये की राशि हो या 100 करोड़, सभी बैंक इन पैसों को नई मुद्रा यानी 500 और 2000 रुपये के नए नोट में बदलेंगे।

सरकार ने कहा है कि छूट केवल सिर्फ मंदिरों में चढ़ाए गए पैसों पर मिलेगी। यदि मंदिर को कोई ट्रस्ट चलाता है या उससे जुड़ा हुआ कोई ट्रस्ट या संस्था है तो वो इनकम टैक्स विभाग की प्रक्रिया के दायरे में आएंगे। ऐसा इसलिए क्योंकि ट्रस्ट या संस्था द्वारा दान के तौर पर ली जाने वाली राशि का हिसाब होता है। ट्रस्ट बाकायादा दान देने वाले की जानकारी लेकर स्लिप देता है। उनका रिकॉर्ड अपने पास रखता है। सरकार ने कहा है कि इसका रिकॉर्ड होने की वजह से ऐसे ट्रस्टों को दान देने वाले व्यक्ति का ब्योरा बैंक को देना होगा। इनकम टैक्स उनसे जानकारी ले सकता है। हालांकि ट्रस्ट द्वारा दी गई जानकारी सही पाई गई तो पैनल्टी नहीं देनी होगी।

स्वर्ण मंदिर ने पैसा लेने से इनकार कियाअमृतसर स्थित स्वर्ण मंदिर में श्रद्धालुओं से दान के तौर पर पैसा नहीं लिया जा रहा है। शिरमोणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के एक अधिकारी ने बताया कि सभी कर्मचारियों को निर्देश दिए हैं कि वो श्रद्धालुओं को पैसा देने से रोकें। यही नहीं, प्रसाद काउंटर पर प्रसाद के बदले पैसे भी नहीं लिए जा रहे हैं। गौरतलब है कि स्वर्ण मंदिर में रोजाना औसतन एक लाख श्रद्धालु आते हैं। लाखों रुपये का चढ़ावा चढ़ता है।

TOPPOPULARRECENT