Thursday , August 17 2017
Home / Featured News / विरोधी मुस्लिम आतंकवाद विभाग स्थापित करने की आवश्यकता पर ज़ोर

विरोधी मुस्लिम आतंकवाद विभाग स्थापित करने की आवश्यकता पर ज़ोर

इस्तांबुल: मुस्लिम देशों ने सहमति व्यक्त की कि तुर्की में स्थापित मुस्लिम संगठन में एक विभाग आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई के लिए स्थापित किया जाएगा। राष्ट्रपति तुर्की रिसेप तईप अरदगान ने आज कहा कि वह मुस्लिम देशों के नेताओं पर जोर देते हैं कि देश छोड़ने के लिए मुख्य कारण माना जाए। वह संगठन इस्लामी सहयोग की 13 वीं शिखर सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे जो इस्तांबुल में आयोजित की गई है। अरदगान ने पुरजोर तरीके से कहा कि उन्हें विश्वास है कि इस्लाम के सामने सबसे बड़ी समस्या आतंकवाद है। आतंकवाद का प्रभावी मुकाबले के लिए उन्होंने मुस्लिम देशों के नेताओं से आग्रह किया कि अपने मतभेद खत्म कर दें और सयानत और अर्थव्यवस्था द्वारा इस समस्या का मुकाबला करें। उन्होंने सऊदी आभरकयादत पहल का समर्थन की अपील की। जिसने आतंकवाद के खिलाफ इस्लामी गठबंधन से कहा कि यह एक प्रभावी क्षेत्र में बदल दिया जाए।

उन्होंने कहा कि अन्य शक्तियों को आतंकवादी घटनाओं और अन्य संकट में हस्तक्षेप करने के लिए इंतेजार करने के बजाय मुस्लिम देशों को चाहिए कि अपने दम पर इस्लामी एकता से इस समस्या का समाधान करें। अरद‌गान ने घोषणा की कि तुर्की प्रस्तावित करता है कि इस्तांबुल में स्थापित पुलिस सहयोग और सद्भाव द्वारा एक केंद्र की स्थापना की जिसे 57 सदस्यीय इस्लामी संगठन स्वीकार करे। राष्ट्रपति तुर्की ने नोट किया कि आतंकवाद के शिकार लोगों की अधिकांश संख्या मुस्लिम है। उन्होंने कहा कि यह ” शर्मनाक बात ‘है कि उनमें से अधिकांश को समुद्र में अपनी जान का खतरा है। जो लोग अपनी जान पर खेलकर यूरोप पहुंच रहे हैं मुस्लिम हैं। उन्होंने कहा कि तुर्की ने एक लाख आप्रवासियों प्रशांत एजीन में डूबने से बचाया है जो ग्रीस जा रहे थे। तुर्की में 27 लाख सीरियाई शरणार्थी हैं जो हाल ही में यूरोपीय संघ के साथ विवादास्पद समझौते के तहत यहां प्रवेश किए है। इस समझौते के तहत अवैध देश छोड़ने को कुचला जा रहा है। आतंकवाद से लड़ने और देश छोड़ने का संकट दो केंद्रीय मुद्दों जिन पर संगठन इस्लामी सहयोग की बैठक में चर्चा की जा रही है।

तुर्की जिसे पिछले साल कई घातक आत्मघाती बम विस्फोट का सामना करना पड़ा है इस्तांबुल में सुरक्षा व्यवस्था में शिद्दत पैदा कर चुका है और जिन क्षेत्रों में ऐसे घटना घटी हैं वहाँ यातायात बंद कर चुका है। सऊदी अरब के वज़ीर‌ सलमान और राष्ट्रपति ईरान हसन रूहानी एक दूसरे के खिलाफ सीरिया और यमन पांति हैं। ये दोनों भी इस शिखर सम्मेलन में भाग लिये हे हैं। राष्ट्रपति मिस्र सीसी की अनुपस्थित बुरी तरह महसूस की गई। मिस्र और तुर्की के बीच संबंधों मिस्र में इस्लामी निर्वाचित राष्ट्रपति मोहम्मद मुर्सी के खिलाफ तख्तापलट के बाद से कड़वा हो गए हैं। शाम में गृहयुद्ध भी शिखर सम्मेलन के एजेंडे में शामिल है। मिस्र के विदेश मंत्री शमी शुक्री ने उम्मीद जताई कि इस शिखर सम्मेलन से सीरियाई जनता को उम्मीदें हैं कि इससे उनके संकट की आजलाना राजनीतिक एकाग्रता हो सकेगी और आतंकवाद के खिलाफ तुलना की अनुमति मिलेगी।

TOPPOPULARRECENT