Sunday , September 24 2017
Home / Education / विश्वविद्यालयों में अभिव्यक्ति की आज़ादी पर गंभीर खतरा: मनमोहन सिंह

विश्वविद्यालयों में अभिव्यक्ति की आज़ादी पर गंभीर खतरा: मनमोहन सिंह

कोलकाता: पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने शैक्षिक संस्थानों में अभिव्यक्ति की आज़ादी पर खतरे को ले कर चिंता का इज़हार किया है. सिंह ने आज जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय और हैदराबाद सेंट्रल यूनिवर्सिटी के हवाले से कहा कि असहमति को अलोकतांत्रिक तरीके से दबाने की कोशिश हो रही है, जिससे शैक्षिक संस्थानों में नकारात्मक असर पड़ेगा और छात्रों में सलाहियत की कमी आएगी।

Facebook पे हमारे पेज को लाइक करने के लिए क्लिक करिये

प्रिडेंसी विश्वविद्यालय के दो साला तासीस समारोह को संबोधित करते हुए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि विश्वविद्यालयों में अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थक हूँ. चाहे वह आज़ादी प्राचीन सामाजिक और बुद्धिजिवियों के विचारों के विपरीत ही क्यों न हों। इस के बावजूद हमें उस आजादी की हिफाजत करनी होगी। पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि इस समय शिक्षा में आज़ाद ख्याल और अभिव्यक्ति की आज़ादी को खतरे का सामना है। शैक्षिक संस्थानों में पुलिस की दखलअंदाजी बदकिसमती है।

मनमोहन सिंह ने शैक्षिक संस्थानों की खुदमुख्तारी की वकालत करते हुए कहा कि इसकी हिफाज़त के लिए हमें कोशिश करनी चाहिए और अभिव्यक्ति की आजादी को अलोकतांत्रिक तरीके से दबाने की कोशिश के खिलाफ एकजुट होने की ज़रूरत है।

TOPPOPULARRECENT