Monday , October 23 2017
Home / India / वी वी आई पीज हेली कापटर्स की खरीदी शक के दायरा में

वी वी आई पीज हेली कापटर्स की खरीदी शक के दायरा में

नई दिल्ली, २३ अक्टूबर ( पी टी आई ) इंडियन एयरफ़ोर्स के लिए 12 वी वी आई पी हेली कापटर्स खरीदने की मुआमलत भी अब शक के दायरा में आ गई है और एक अमेरीकी । इटालवी शख़्स के बारे में तहकीकात की जा रही हैं क्योंकि आगसटा वेस्ट लैंड को ये मुआमलत दिल

नई दिल्ली, २३ अक्टूबर ( पी टी आई ) इंडियन एयरफ़ोर्स के लिए 12 वी वी आई पी हेली कापटर्स खरीदने की मुआमलत भी अब शक के दायरा में आ गई है और एक अमेरीकी । इटालवी शख़्स के बारे में तहकीकात की जा रही हैं क्योंकि आगसटा वेस्ट लैंड को ये मुआमलत दिलाने के लिए रिश्वत अदायगी के इल्ज़ामात सामने आए हैं ।

ज़राए इबलाग़ (Media) की इत्तिलाआत में कहा गया है कि अमेरीकी – इटालवी शख़्स गाएडो राल्फ हस्चके को दो दिन क़बल स्विटज़र लैंड में गिरफ़्तार कर लिया गया है । ये गिरफ़्तारी इटालवी तहकीकात के सिलसिला में अमल में आई थी ताहम उसे कल ज़मानत पर रिहा कर दिया गया है ।

हिंदूस्तान ने अगसटा वेस्ट लैंड के साथ 2010 में 560 मिलियन यूरो का मुआहिदा (Agreement) किया था ताकि एयरफ़ोर्स के लिए बारह AW 101 हेली कापटrस फ़राहम किए जा सकें । इन हेली कापटर्स का हिंदूस्तान को हुसूल ( प्राप्त होना) 2013 के अवाइल में होना है ।

वज़ारत-ए-दिफ़ा के ओहदेदारों ने बताया कि इस दौरान इन इत्तिलाआत का नोट लेते हुए वज़ीर दिफ़ा ( रक्षा मंत्री) मिस्टर ए के अनटोनी ने वज़ारत के ओहदेदारों से कहा कि वो इतालवी हुक्काम से राबिता ( संपर्क) बनाएं और इस केस में इन की तहकीकात से मुताल्लिक़ तफ़सीलात हासिल करें।

क़बल अज़ीं वज़ारत ने रोम में हिंदूस्तानी सफ़ीर (राजदूत) से कहा था कि वो इटालवी तहकीकात के ताल्लुक़ से एक रिपोर्ट पेश करें। इस वक़्त ज़राए इबलाग़ ( Media) में पहली मर्तबा उस की इत्तिला मिली थी । ताहम ( यद्वपि) वज़ारत-ए-दाख़िला ( रक्षा मंत्रालय) ने अब वज़ारत-ए-दिफ़ा ( रक्षा मंत्री) से कहा है कि वो इटालवी हुकूमत के साथ रास्त ( सीधा) राबिता (संपर्क) करे क्योंकि इस केस की नवीत क़दरे ( बिलकुल ) मुख़्तलिफ़ ( अलग) है ।

इस सवाल पर कि आया वज़ारत-ए-दिफ़ा इस मुआमलत को मंसूख़ (निरस्त) करने पर ग़ौर कर रही है ओहदेदारों ने कहा कि इस ताल्लुक़ से अभी कुछ भी कहना क़बल अज़ वक़्त होगा क्योंकि सरकारी तौर पर कोई रिपोर्ट हनूज़ ( अभि तक) मौसूल ( प्राप्त) नहीं हुई है ।

इटालवी ज़राए इबलाग़ (media) ने इस मुआमलत के ताल्लुक़ से माह अप्रैल ही में सवाल उठाए थे जिस के बाद हिंदूस्तान ने अपने सिफ़ारतख़ाना से कहा था कि वो इस केस में होने वाली तब्दीलियों पर नज़र रखे । अब वज़ारत-ए-दिफ़ा रास्त (सीधे) इटली हुकूमत से राबिता ( संपर्क) करेगी ।

TOPPOPULARRECENT