Saturday , October 21 2017
Home / Hyderabad News / वुज़रा(मंत्रि/ministers) की कमेटी में जूनियर्स को शामिल करने पर एतराज़

वुज़रा(मंत्रि/ministers) की कमेटी में जूनियर्स को शामिल करने पर एतराज़

सिनियर‌ वुज़रा(मंत्रि/minister) को नज़रअंदाज करने पर यादव रेड्डी की तन्क़ीद

सिनियर‌ वुज़रा(मंत्रि/minister) को नज़रअंदाज करने पर यादव रेड्डी की तन्क़ीद
कोंग्रेस एम एल सी मिस्टर यादव रेड्डी ने वुज़रा(मंत्रि/minister) की कमेटी में पार्टी क़ाइदीन को शामिल ना करने और तेलंगाना के सेनएर वुज़रा (मंत्रि/minister)को नज़रअंदाज कर के जूनियर वुज़रा(मंत्रि/minister) को शामिल करने पर एतराज़ किया । तेलंगाना मसले को मज़ीद टाल मटोल की बजाय फ़ौरी ऐलान करने का पार्टी हाईकमान से मुतालिबा किया ।

मिस्टर यादव रेड्डी ने मीडिया से बात चीत करते हुए कहा कि पार्टी की शिकस्त और दूसरे उमूर का जायज़ा लेने कमेटी तशकील देने का इक़दाम काबिल सिताइश है और उसकी ज़रूरत भी है ताहम(फिर भी) कमेटी में सिर्फ वुज़रा(मंत्रि/minister) को शामिल करने और वो भी पार्टी की शिकस्त के ज़िम्मेदार वुज़रा(मंत्रि/minister) को शामिल करने पर एतराज़ है क्यों कि जिस मक़सद केलिए कमेटी तशकील दी गई है इस के शफ़्फ़ाफ़ नताइज बरामद होने की तवक़्क़ो नहीं है । तमाम (फिर भी)वुज़रा(मंत्रि/minister) पार्टी की शिकस्त के ज़िम्मेदार हैं वो अपनी गलतियों , नाकामियों , काहिली , कमज़ोरियों का क्यों कर अहाता करेंगे ।

सब एक दूसरे से मैच फिक्सिंग करके अपनी गलतियों पर पर्दा डालने की कोशिश करेंगे । कमेटी में वुज़रा(मंत्रि/minister) के साथ सिनियर‌ क़ाइदीन को शामिल किया जाता तो वो हक़ायक़ को पेश करने हुकूमत और पार्टी को पेश की जाने वाली रिपोर्ट में गलतियों की सिफ़ारिश करने में अहम रोल अदा करते थे इस के अलावा कमज़ोरियों की निशानदेही करने में इस का हल बरामद करने में मुफीद मश्वरे भी देते ।

उन्हों ने तेलंगाना के सिनियर‌ वुज़रा (मंत्रि/minister)को नज़रअंदाज कर के जूनियर वुज़रा(मंत्रि/minister) को कमेटी में शामिल करने पर एतराज़ करते हुए कहा कि ये इक़दाम सिनियर‌ वुज़रा(मंत्रि/minister) से ना इंसाफ़ी के मुतरादिफ़ है । तेलंगाना पर फैसला करने का वक़्त आगया है ।

आंधरा प्रदेश के हालिया ज़िमनी इंतिख़ाबात(उप चुनाव‌) में पार्टी की शिकस्त के बाद अलहदा तेलंगाना रियासत तशकील देना ज़रूरी है । कोंग्रेस हाईकमान के फैसले के बाद मर्कज़ी वज़ीर दाख़िला , मिस्टर पी चिदम़्बरम ने 9 दिसंबर 2009 को अलहदा तेलंगाना रियासत तशकील देने का ऐलान किया था इस वाअदे को निभाने का वक़्त आगया है ।

कमेटियां तशकील देते हुए लंबे अर्से तक तेलंगाना के मसले को टाल मटोल करने से कोंग्रेस पार्टी का ही नुक़्सान होगा ।

TOPPOPULARRECENT