Saturday , October 21 2017
Home / India / वज़ीर-ए-आज़म का दौरा-ए-रूस , 7 से 9 मुआहिदात मुम्किन

वज़ीर-ए-आज़म का दौरा-ए-रूस , 7 से 9 मुआहिदात मुम्किन

नई दिल्ली, १५ दिसम्बर:( आमिर अली ख़ान)) मज़ीद दो रूसी साख़ता रीऐक्ट्रस की तामीर के लिए कंट्टर एक्ट कोडनकुलम में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के हालिया दौरा रूस में तए होने और मुआहिदा पर दस्तख़त होने का इमकान नहीं है।

नई दिल्ली, १५ दिसम्बर:( आमिर अली ख़ान)) मज़ीद दो रूसी साख़ता रीऐक्ट्रस की तामीर के लिए कंट्टर एक्ट कोडनकुलम में वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के हालिया दौरा रूस में तए होने और मुआहिदा पर दस्तख़त होने का इमकान नहीं है।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के दौरा मास्को का कल से आग़ाज़ होरहा है। ताहम बातचीत आख़िरी मराहिल में है। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह रूस के दार-उल-हकूमत का 3 रोज़ा दौरा करने जिस का आग़ाज़ कल से होगा, रवाना हो रहे हैं। जहां वो बारहवीं सालाना हिंद रूस चोटी कान्फ़्रैंस में जुमा के दिन शिरकत करेंगी। कान्फ़्रैंस में दोनों ममालिक तवक़्क़ो है कि 7 से 9 मुआहिदात पर दस्तख़त करेंगी, जिन के तहत तिजारत, दिफ़ा और तवानाई के शोबों में तआवुन में तौसीअ होगी।

मोतमिद ख़ारिजा रंजन मथाई ने वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह के दौरा मास्को की तफ़सीलात अख़बारी नुमाइंदों को बताते हुए मुक़ामी अफ़राद और माहौलियात के अलमबरदार कारकुनों के एहतिजाज और तजावीज़ का तज़किरा नहीं किया जो कोडनकुलम में जो ज़िला टीवटी कवर्न में वाक़्य है, पहले और दूसरे रूसी साख़ता न्यूक्लीयर री ऐक्टर की तंसीब की मुख़ालिफ़त की जा रही है, जिस की वजह से नए मुआहिदा पर दस्तख़त मुल्तवी कर दिए गए हैं।

उन्हों ने इस सवाल पर कि क्या दस्तख़त में ताख़ीर की वजह न्यूक्लीयर तवानाई कारपोरेशन आफ़ इंडिया लिमेटेड (एन बी सी पी ईल) और एटमस ट्रॉय एक्सपोर्ट के दरमयान इख़तिलाफ़ात हैं या फिर उस की तंसीब के ख़िलाफ़ एहितजाजी मुज़ाहिरे हैं, जिस पर वज़ीर-ए-आज़म के मौजूदा दौरा रूस के मौक़ा पर दस्तख़त मुतवक़्क़े थी।

मथाई ने ताहम कहा कि बातचीत आख़िरी मराहिल में है, लेकिन उन्हों ने मुआहिदा की क़तईयत का वक़्त मुक़र्रर करने से इनकार करदिया। कोडनकुलम (मुज़ाकरात) आख़िरी मराहिल में हैं और दोनों ममालिक जल्द ही इस सिलसिला में पेशरफ़त करने की तवक़्क़ो है।

मथाई ने ये भी कहा कि हिंदूस्तान दोनों ममालिक के सियोल वाजिबात क़वाइद बराए न्यूक्लीयर तबाह कारीयां के बारे में अंदेशों का अज़ाला करने केलिए खुल कर तबादला-ए-ख़्याल करने का ख़ाहां है। मोतमिद ख़ारिजा ने हिंदूस्तान के मौक़िफ़ का ख़ाका ब्यान किया, उन से रूस की जानिब से न्यूक्लीयर वाजिबात क़वाइद की मुख़ालिफ़त के बारे में सवाल करने पर कहा कि पहले दूरी ऐक्ट्रस कोडनकुलम में और मुजव्वज़ा तीसरे और चौथे रीऐक्ट्रस के सिलसिला में पहले दोनों रीऐक्ट्रस की एहतिजाज के नतीजा में तात्तुल का शिकार होने के बाद पेशरफ़त बंद हो चुकी है।

वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह को सदर रूस दीमतरी मीडवीडीफ़ के साथ महिदूद मुलाक़ात करनी है, जिस के बाद जुमा के दिन वफ़ूद की सतह पर बातचीत होगी। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह , वज़ीर-ए-आज़म रूस व्लादीमीर पोटीन से भी मुलाक़ात करेंगी, जिन्हें पारलीमानी इंतिख़ाबात के बड़े पैमाने पर धोका दही के इल्ज़ामात से दागदार होजाने के बाद अवामी ब्रहमी का सामना है। इस सवाल का जवाब देते हुए रंजन मथाई ने कहा कि दोमा के इंतिख़ाबात के बाद रूस में पेश आने वाली तबदीलीयों का वज़ीर-ए-आज़म के दौरा और बाहमी ताल्लुक़ात पर कोई असर मुरत्तिब नहीं होगा।

उन्हों ने कहा कि ये तमाम बिलकुल्लिया तौर पर रूस के दाख़िली उमूर हैं। दोमा के इंतिख़ाबात ने पोटीन के इक़तिदार पर ज़रब लगाई है। रूस की इस तजवीज़ के बारे में सवाल का जवाब देते हुए कि रूस की सरज़मीन पर अफ़ज़ोदगी की सहूलत फ़राहम की जाएगी और हिंदूस्तानी न्यूक्लीयर प्लांट से हासिल होने वाले मसतामला ईंधन को अफ़्ज़ोदा किया जाएगा। उन्हों ने कहाकि इस मौज़ू पर तबादला-ए-ख़्याल किया जाएगा।
मुल्क् के आला सतही सिफ़ारतकार ने ये भी कहा कि रूसियों ने वाज़िह कर दिया है कि रूस ने हिंदूस्तान से न्यूक्लीयर प्रोग्राम के सिलसिला में जो तीक़न दिया है इस से दस्तबरदार होने का सवाल पैदा नहीं होता।

मीडवीडीफ़ और पोटीन के साथ बातचीत के दौरान तवक़्क़ो हीका वज़ीर-ए-आज़म दिफ़ा, ख़ला, एटमी तवानाई, हाईड्रो कार्बनस और साईंस-ओ-टैक्नोलोजी के शोबों में बाहमी तआवुन पर भी बातचीत करेंगी। मनमोहन सिंह और मीडवीडीफ़ हिंदूस्तानी और रूसी सी ई औज़ के साथ मुशतर्का तबादला-ए-ख़्याल भी करेंगी। वज़ीर-ए-आज़म मनमोहन सिंह इमकान है कि हफ़्ता की शाम वतन वापिस हो जाएंगे। हिंदूस्तान और रूस मुशतर्का सरमाया कारी फ़ंड क़ायम करने की तजवीज़ भी रखते हैं।

एक मुशतर्का आलामीया भी जारी किया जाएगा, जिस में हिंद । रूस ताल्लुक़ात के वसीअ तनाज़ुर और आलमी मसाइल के बारे में मुशतर्का नुक़्ता-ए-नज़र का अक्कास होगा। मोतमिद ख़ारिजा रंजन मथाई ने कहा कि रूस और हिंदूस्तान के क़रीब तरीन ताल्लुक़ात के बारे में मुस्तहकम क़ौमी इत्तिफ़ाक़ राय मौजूद है और इसी की बिना पर हिंदूस्तान के रूस के साथ ताल्लुक़ात ख़ुसूसी और मुराआत याफ़ता हैं।

TOPPOPULARRECENT